बर्बादी की कगार पर पाकिस्तान, इमरान खान के मंत्री ने लोगों को एक रोटी खाने दी सलाह,

0

पिछले कुछ दिनों से पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था के बदहाल की खबरे आ रही है, ऐसे में वहां की ओम्रान खान की सरकार पैसे जुटाने के लिए तरह-तरह के तरीके आजमाने का प्रयास कर रही है. ऐसे में बढ़ती महंगाई और वित्तीय घाटा की दोहरी मार के कारण पाकिस्तान की कमर और तोड़ने वाली है. इसी बीच में पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा विधानसभा स्पीकर मुस्ताक गानी का एक ऐसा बयान सामने आया है जो अब सुर्खियां बन रही है, ‘मीट द प्रेस’ कार्यक्रम में मुस्ताक गानी ने पाकिस्तान की आवाम को दो रोटी के बदले एक रोटी खाने की सलाह दी है.

मुस्ताक गानी ने पाक की आर्थिक संकट का जिक्र करते हुए कहा कि देश की जनता को अब एक दिन में एक रोटी खानी चाहिए. बता दें कि पाकिस्तान आर्थिक बदहाली के कारण दुनिया भर से भीख मांग रहा है. सऊदी अरब के प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान (ने कंगाली की कगार पर पहुंचे पाकिस्तान को चंदा दिया है. सऊदी अरब और पाकिस्तान के बीच रविवार को 20 बिलियन डॉलर तक के निवेश सौदों पर हस्ताक्षर हुए. इन सौदों में रिफाइनिंग और पेट्रोकेमिकल क्षेत्रों में निवेश के अवसरों की खोज, खेल के क्षेत्र में सहयोग, सऊदी माल के आयात के लिए वित्तपोषण समझौता, बिजली उत्पादन की परियोजनाएं और नवीकरणीय ऊर्जा परियोजनाओं का विकास शामिल है.

गौरतलब हो कि कुछ दिनों पहले एक चौकानें वाली रिपोर्ट सामने आई थी. जिसके अनुसार पाकिस्तान में करीब सवा दो करोड़ ऐसे बच्चे हैं. जो स्कूल जाना चाहतें है लेकिन वे स्कूल नहीं जा रहें है . इन बच्चों में ज्यादातर लड़कियां हैं. यह रिपोर्ट एक अंतरराष्ट्रीय अधिकार समूह ह्यूमन राइट वॉच ने तैयार की है. रिपोर्ट का नाम है, ‘मैं अपनी बेटी को भोजन दूं या उसे पढ़ाऊं: पाकिस्तान में बालिकाओं की शिक्षा में अड़चनें, ह्यूमन राइट वॉच द्वारा जारी इस रिपोर्ट में कहा गया है कि प्राइमरी स्कूल जाने की उम्र वाली करीब 32 फीसदी लड़कियां स्कूल नहीं जा पा रही हैं. इसमें लड़कों की संख्या 21 फीसदी है. जो स्कूल नहीं जा पा रहें है.

loading...
शेयर करें