पंजाब सेंट्रल जेल में दो गुटों में हुई फायरिंग से एक कैदी की मौत

लुधियाना। पंजाब सेंट्रल जेल में हुई हिंसात्मक प्रक्रिया से पूरा प्रशासन सकते में है। मामला ने तूल तब पकड़ा जब दो गुटों के बीच हुई हिंसा ने एक बड़े झगडे का रूप ले लिया। जिसमे डीएसपी सहित कई पुलिस वाले भी घायल हुए है। कैदियों और पुलिस के बीच हुए इस झगड़े में एक कैदी की मौत हो गई है।

जेल के अंदर अभी भी थोड़े थोड़े समय के पश्चात् फायरिंग की आवाज आ रही हैैै, डीएसपी के सिर पर गंभीर चोट आई है। कैदियों ने डीएसपी की गाड़ी को भी जला दिया। उपायुक्त (डीसी) भी मौके पर पहुंचे। इस बीच जेल मंत्री सुखजिंदर रंधावा ने एडीजीपी जेल रोहित चौधरी से पूरे घटनाक्रम की जानकारी मांगी है। जेल मंत्री ने जेल में दो सिलेंडर फटने की बात भी कही है, कि फायरिंग में मारे गए कैदी की पहचान संदीप सूद के रूप में हुई है। यह कैदी दीवार फांदकर भागने की कोशिश कर रहे थे। बताया जा रहा है कि नौ कैदी भागने में कामयाब हो गए हैं। जिनमे से चार कैदियों को पकड़ लिया गया है बांकी के अभी भी फरार हैं। इस बीच पुलिस को यह आदेश दिया गया कि यदि दो लोगों आपस में झगडा करते दिखे तो उन्हें गोली मार दो।

जेल के एक कैदी ने इस पुरे झगडे को फेसबुक पर अपडेट भी किया है। अब सवाल यह है की जेल में कैदी के पास मोबाइल कहाँ से आया। जबकि जेल में इस तरह के डिवाइस को ले जाने की अनुमति नहीं है। वहीँ दूसरी ओर जेल मंत्री रंधावा ने कहा की हाई प्रोफाइल जेलों में सीआरपीफ लगायी जानी चाहिए। यह मामला इतना बढ़ गया था की आसपास के थानों से पुलिस को भी बुलाया गया। ताकि तनावपूर्ण स्थिति को काबू में किया जा सके, साथ ही कैदियों द्वारा किये गए इस तरह के बर्ताव से निपटा जा सके।

Related Articles