शबनम को फांसी देने की चल रही तैयारी, परिजनों को कोई अफसोस नहीं, जानिए घटना की पूरी कहानी

गांव के एक दुमंजिला मकान के सामने लोगों की भीड़ हमेशा लगी रहती है। जिस घर के सामने भीड़ लगती है वह घर है शबनम का।

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के अमरोहा जिले के बावनखेड़ी गांव में इस समय मीडिया कि गाड़ियों का आवाजाही लगा हुआ है। गांव के एक दुमंजिला मकान के सामने लोगों की भीड़ हमेशा लगी रहती है। जिस घर के सामने भीड़ लगती है वह घर है शबनम का। जिसने 13 साल पहले अपने ही परिवार के 7 लोगों को मौत की घाट उतार दी थी। आपको बता दे कि शबनम अपने प्रेमी सलीम के साथ मिलकर अपने परिवार के सात लोगों की हत्या सिर्फ इसलिए कर दी थी, क्योंकि परिवार उनकी शादी में अड़चन डाल रहा था।

फांसी की सजा सुनाई गई

शबनम और उमके प्रेमी सलीम को कोर्ट की तरफ से फांसी की सजा सुनाने की तैयारी चल रही है। इतना ही नही राष्ट्रपति भी दया याचिका को खारिज कर चुके हैं। दोनों का डेथ वारंट कभी भी जारी हो सकता है। अगर शबनम को फांसी होती है कि वह आजाद भारत की पहली महिला होगी जिसकी मौत फांसी देने होगी।

शबनम के चाचा सत्तार अली कहते हैं कि जब हम पहुंचे तो शबनम चिल्ला रही थी, मेरे पापा को काट दिया, हाय रे, सबको मार डाला। मेरे भाई, भाभी, भतीजे सबको मार डाला। और खुद चिल्लाकर बता रही थी कि  घर में घुसे बदमाश परिवार की हत्या कर भाग गए हैं। बाप की लाश के पास रो रही बेटी पर भला किसे शक हो सकता था। हम लोगों के तो ख्याल से भी परे था कि कोई बेटी अपने पूरे परिवार का इस बेरहमी से कत्ल कर सकती है।’

इसी कमरे में हुई थी हत्या
इसी कमरे में हुई थी हत्या

72 घंटे के अंदर ही सच को सामने ला दी

इस घटना की खबर मिलते ही घटनास्थल पर पुलिस पहुंची और मामले को संज्ञान में लेते हुए जांच करना शुरु कर दी। पुलिस ने महज 72 घंटे के अंदर ही सच को सामने ला दी। पुलिस ने खुलासे में बताया कि शबनम ने अपने प्रेमी सलीम के साथ मिलकर पहले पूरे परिवार को दूध में मिलाकर नशा दिया और फिर गला रेत दिया।

आपको बता दे कि मेरठ की जेल में शबनम को फांसी की सजा होने को है  लेकिन उसके परिजनों को कोई अफसोस नहीं है। ग्राम प्रधान से पता चला है कि शबनम के चाचा उसकी संपत्ति को धीरे-धीरे बेच रहे हैं। तो वहीं सलीम की मा कहती है कि मेरा बेटा ऐसा नही कर सकता। उसकी मां कहती हैं, ‘हम जेल में जब भी सलीम से मिले, उसने यही कहा कि मुझे छुड़ा लो।’ वे कहती हैं, ‘मैं मां हूं, मैं जो सोचती हूं, बता नहीं सकती। मुझे यकीन नहीं है कि मेरा बेटा ऐसा कर सकता है। मैं तो यही दुआ करती हूं कि अल्लाह मेरा बेटा मुझे लौटा दे।

यह भी पढ़ें: पेट्रोल-डीजल की महंगाई को लेकर गुस्से में आई मयावती, ट्वीट कर सरकार पर कसा तंज

Related Articles

Back to top button