घेरि आई कारि बदरिया बरसन लागी सखि मोरी अटरिया, Online कजरी मोहत्सव का 5वां दिन

अंतर्राष्ट्रीय भोजपुरी सेवा न्यास के तत्वावधान में चल रहा ये कजरी महोत्सव के कार्यशाला में आज प्रतिभागियों को उक्त कजरी गीत को आज अंतरराष्ट्रीय भोजपुरी सेवा न्यास परिवार की संरक्षिका और कजरी कार्यशाला की प्रशिक्षिका श्रीमती शशिलेखा सिंह जी ने आनलाइन गाकर कजरी गीत के अंतरा को एक एक मात्रा को बहुत ही एक एक अंतरा के मात्रा को लय से गा कर बताया। और एक एक अंतरा गवाकर सभी प्रतिभागियों से सुना भी।

लखनऊ: कजरी मोहत्सव के पचवें दिवस पर अंतर्राष्ट्रीय भोजपुरी सेवा न्यास के तत्वावधान में सावन के चौथे दिवस पर प्रतिभागी गणों को कार्यशाला में आज चौथा कजरी गीत ‘डेढ़ फुल्ली धनि हो लागल सावन महीनवां चल चलीं कासी नगरिया ना’ गाया गया।

सावन के आज पचवां दिवस पर 29 जुलाई 2021 को अन्तर्राष्ट्रीय भोजपुरी सेवा न्यास परिवार के तत्वावधान में कजरी महोत्सव कार्यशाला का दुसरे दिन प्रतिभागी अपनी अपनी प्रस्तुति दिया। ‘घेरी आई सखी कारी बदरिया, बरसन लागी सखी मोरी अटरिया’शीर्षक से आयोजित इस कार्यक्रम का पचवां दिन अंतर्राष्ट्रीय भोजपुरी सेवा न्यास के अध्यक्ष परमानंद पांडेय ने आनलाईन उपस्थित प्रतिभागी को आंमत्रित कर विधिवत शुरुआत करने लिए अंतर्राष्ट्रीय भोजपुरी सेवा न्यास परिवार की संरिक्षका शशिलेखा सिंह जी आग्रह किया न्यास की संरिक्षका/कजरी महोत्सव क कार्यशाला की प्रशिक्षिका शशिलेखा सिंह जी ने खाटी भोजपुरी कजरी के अंतरा को जब सुनाकर अभ्यास कराया तो एक एक लय को एक एक ताल को बहुत ही ध्यानमग्न होकर प्रतिभागियों ने सुना फिर एक एक करके सभी प्रतिभागियों ने एक से एक लय में बढ चढ कर कजरी के अंतरा को गा कर प्रतिभागियों ने अपने मनमोहक लय में ने सुनाना शुरू किया तो लग रहा जैसे कुछ समय के लिए कासी लखनऊ में ही आ गया हो।

ये भी पढ़ें : कोरोना ने मचाया हाहाकार, इस राज्य में लगा दो दिन का Complete Lockdown

आज पचवां दिवस कजरी गायन आनलाइन गुगल मीट पर कजरी गीतों की प्रस्तुतिकरण और प्रशिक्षण में भाग लेने वाली प्रतिभागियों में रीता श्रीवास्तव, नर्वदा उर्फ मधु श्रीवास्तव, सुमन पांडेय, अंजली सिंह, हेमलता त्रिपाठी, सीमा अग्रवाल, अर्पणा सिंह, नीरु श्रीवास्तव, शैली सिंह, बंदना तिवारी, सुधा तिवारी, भारती श्रीवास्तव गाजियाबाद, नीरु श्रीवास्तव, प्रियंका पांडेय, कंचन श्रीवास्तव, रीता पांडेय, भारती श्रीवास्तव, कुसुम मिश्रा, रीना मिश्रा, इंदु दुबे गायत्री त्रिपाठी, मंजुला पांडेय, पूनम मिश्रा, तन्नु कुमारी चौहान, विभा श्रीवास्तव, सरला गुप्ता, कल्पना सक्सेना, अम्बुज अग्रवाल, राम बहादुर राय अकेला राजकमल सौरभ सम्मलित हुईं/हुए।

आज पांचवे दिवस भी अंतर्राष्ट्रीय भोजपुरी सेवा न्यास के सभी पदाधिकारी गण उपाध्यक्ष दुर्गा प्रसाद दुबे, दिग्विजय मिश्र, संयुक्त सचिव राधेश्याम पांडेय, जे पी सिंह, न्यासी शाश्वत पाठक, प्रसून पांडेय, सुदर्शन दुबे, दिव्यांशु दुबे, अखिलेश द्विवेदी, दशरथ महतो, गयानाथ यादव, और ऊषाकान्त मिश्र, विनीत तिवारी, निलेन्द्र त्रिपाठी, सुनील मिश्र, पुनीत निगम आदि भी आनलाईन मौजूद रहे।

ये भी पढ़ें : घर के पीछे कुएं की खुदाई में निकला 745 करोड़ की कीमत का बेशकीमती रत्न, उड़ गए होश

(Puridunia हिन्दी, अंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब  पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

Related Articles