नीति आयोग ने कहा जल्द बनेगा सार्वजनिक परिवहन के लिए एक राष्ट्र एक कार्ड

0

नई दिल्ली : नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने बताया कि सार्वजनिक परिवहन के लिए देश में जल्द ही एक राष्ट्र एक कार्ड नीति की शुरुआत होने जा रही है। जिससे परिवहन के विभिन्न साधनों के बीच समेकित रूप से तालमेल स्थापित होगा।

उन्होंने कहा कि मजबूत परिवहन क्षेत्र किसी देश के विकास की रीढ़ होता है, खासतौर से भारत जैसे घनी आबादी वाले विकासशील देश के लिए इसकी अहमियत ज्यादा है। उन्होंने कहा कि देश की परिवहन रणनीति का उद्देश्य सार्वजनिक परिवहन के साधनों को टिकाऊ बनाना और परिवहन केंद्रित योजना व डिजिटीकरण को लागू करना है।

अमिताभ कांत ‘फ्यूचर मॉबिलिटी समिट-2018’ के समरोह में ये बातें बताई, उन्होंने ‘इंडियाज मूव टू नेक्स्टजेन ट्रांसपोर्ट सिस्टम’ यानी अगली पीढ़ी के परिवहन तंत्र की दिशा में भारत के कदम के विषय पर भी बात की।

भारत में सड़क परिवहन का देश के सकल घरेलू उत्पाद में चार फीसदी योगदान है, जबकि यह क्षेत्र मुख्य रूप से जीवाश्म ईंधन पर आधारित है।

कांत ने कहा कि देश के प्रमुख नगरों में वायु की गुणवत्ता बदतर स्थिति में होने, जलवायु परिवर्तन की चिंता बढ़ने और तेल आयात बिल में काफी इजाफा होने से विकास के मामले में परिवहन क्षेत्र एक बड़ी उलझन है। साथ ही भारत की अर्थव्यवस्था और लोगों की संभावनाओं की कुंजी भी है।

नीति आयोग के सलाहकार अनिल श्रीवास्तव ने कहा कि सरकार पूरे भारत में मजबूत परिवन व्यवस्था बनाने की दिशा में काम कर रही है।

ये भी पढ़े…..नोटबंदी से नहीं रघुराम राजन की नीतियों से विकास दर में आई थी कमी : नीति आयोग

उन्होंने कहा, “नागरिकों को अपने वाहन का इस्तेमाल करने के बजाय वाहन इस्तेमाल मे साझेदारी यानी शेयरिंग राइड की दिशा में काम करना चाहिए। सरकार ने भारत के मॉबिलिटी विजन का संचालन करने के लिए विभिन्न विभागों के हितधारकों को मिलाया है।”

loading...
शेयर करें