खुल गई बीजेपी और चुनाव आयोग के झूठ की पोल, अमेरिका ने बताई EVM की सच्चाई

0

नई दिल्ली: 2014 में हुए लोसभा चुनाव में जीत हासिल करने के बाद से लगातार विजयी रथ पर सवार बीजेपी अब सवालों के घेरे में आती नजर आ रही है। मिली जानकारी के अनुसार, अभी तक जिस ईवीएम मशीन पर शक जताते हुए विपक्षी पार्टियां आवाज बुलंद कर रही थी, अब उस बात पर मोहर लग गई है। दरअसल, अमेरिकी विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि ईवीएम मशीन को हैक किया जा सकता है। वैज्ञानियों के इस दावे के बाद बीजेपी और चुनाव आयोग दोनों सवालों के घेरे में आ खड़ा हुआ है।

ईवीएम मशीन

Hindi News FYI नाम के एक न्यूज पोर्टल द्वारा प्रकाशित की गई एक खबर के अनुसार, अमेरिकी विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने भी ईवीएम मशीन में हैकिंग करने के तरीकों को बनाने का दावा किया है इस तकनीक से मिशिगन विश्वविद्यालय के शोधकर्ता मोबाइल से संदेश भेजकर नतीजों को बदलने में कामयाब रहे हैं इस दौरान नेतृत्व कर्ता प्रोफेसर जे एलेक्स हल्दरमैन ने बताया कैसे मोबाइल से सन्देश भेजकर परिणाम बदला जा सकता है।

आपको बता दें कि केंद्र में मोदी सरकार बनने के बाद से भाजपा ने लगातार कई राज्यों में जीत का परचम लहराया था जिसके बाद विपक्ष के कई दलों ने एकसाथ ईवीएम मशीन को लेकर सवाल खड़े किये थे। हालांकि भाजपा ने विपक्ष के सभी आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया था। केवल इतना ही नहीं, चुनाव आयोग ने भी ईवीएम के हैक करने के आरोपों पर नकारात्मक रुख दिखाया था।

अब जब अमेरिकी वैज्ञानिकों का यह शोध सामने आया है तो यह साबित हो गया है चुनाव आयोग के उन बातों में कोई दम नही था जिसमें उन्होने कहा था कि ईवीएम मशीन को हैक नही किया जा सकता है। ऐसे में यह कैसे उम्मीद की जा सकती है कि भारत में चुनाव के नतीजे वहीँ आते हैं तो देश की जनता सुनाती है।

loading...
शेयर करें