रुस में विपक्षी नेता Alexei Navalny को हुई इतने साल की सजा, प्रदर्शनकारियों  को भी भेजा गया जेल

रूस में मास्को की एक अदालत ने रूस के विपक्षी नेता एलेक्सी नवेलनी पर आरोप लगाते हुए कहा कि उनके ऊपर हुए नर्व एजेंट हमले का जर्मनी में उपचार करा रहे थे।

नई  दिल्ली:  रूस में मास्को ( Moscow ) की एक अदालत ने रूस के विपक्षी नेता एलेक्सी नवेलनी ( Alexei Navalny ) पर आरोप लगाते हुए कहा कि उनके ऊपर हुए नर्व एजेंट ( Nerve agent ) हमले का जर्मनी ( Germany ) में उपचार करा रहे थे। उस दौरान जमानत की शर्तों के उल्लंघन का दोषी करार देते हुए साढ़े तीन साल की कैद की सजा सुनाई है। नवेलनी को सजा होने की खबर फैलते ही अमेरिका की कड़ी प्रतिक्रिया देखने को मिला।

आपको बता दे कि अमेरिका ( America ) ने रुस ( Russia ) की सरकार से मांग किया है कि एलेक्सी नवेलनी को बिना शर्त के जल्द से जल्द छोड़ा जाए। अदालत के इस फैसले के विरोध में मॉस्को ( Moscow ) और सेंट पीटर्सबर्ग ( Petersburg ) में विरोध प्रदर्शन हुए। राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन ( President Vladimir Putin ) के कटु आलोचक नवेलनी ने अदालती कार्रवाई को देश के लाखों लोगों को डराने का झूठा प्रयास करार दिया।

यह भी पढ़ें: Petrol-Diesel Price: रॉबर्ट वाड्रा साइकिल चलाकर पहुंचे दफ्तर, सिलेंडर को पहनाई फूलों की माला

Alexei Navalny
Alexei Navalny

फैसला सुनाए जाने के बाद प्रदर्शनकारी मध्य मास्को के कई इलाकों में इकट्ठा होने लगे। भीड़ ज्यदा होने लगी तो पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को पकड़ कर पुलिस वाहनों में बैठा दिया।

अमेरिका ने कहा 

अमेरिका ( America ) के विदेश मंत्री टोनी ब्लिंकन ( Foreign Minister Tony Blinken ) ने अदालत के आदेश के बाद कहा,‘हम नवेलनी को तत्काल और बिना किसी शर्त के रिहा करने की रूसी सरकार से अपनी मांग दोहराते हैं, साथ ही हाल के समय में शांतिपूर्ण तरीके से इकट्ठा होने और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता जैसे अपने अधिकारों का इस्तेमाल कर रहे लोगों को हिरासत से रिहा करने की मांग करते हैं।

Alexei Navalny

एक संगठन ने बताया कि इस दौरान कम से कम 650 लोगों को हिरासत में लिया गया। नवेलनी को जर्मनी से लौटने पर 17 जनवरी को गिरफ्तार किया गया था,वह नर्व एजेंट (जहर) हमले के बाद जर्मनी  ( Germany ) में पांच महीने से उपचार करा रहे थे। उन्होंने अपने ऊपर हुए नर्व एजेंट हमले के लिए रूस की सरकार को दोषी बताया था। हालांकि रूस की सरकार ने उनके आरोपों को खारिज कर दिया था और कहा था कि जहर दिए जाने के सबूत नहीं मिले।

यह भी पढ़ें: Petrol-Diesel Price: रॉबर्ट वाड्रा साइकिल चलाकर पहुंचे दफ्तर, सिलेंडर को पहनाई फूलों की माला

Related Articles

Back to top button