विपक्षी दलों ने संसद से विजय चौक तक निकाला पैदल मार्च, हाथों में थे पोस्टर/ बैनर

नई दिल्ली: संसद का मॉनसून सत्र (monsoon season) पूरी तरह से हंगामे में धुल गया और बुधवार को सत्र खत्म भी हो गया। नए कृषि कानूनों के विरोध में विपक्षी दलों ने केंद्र सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। 15 विपक्षी दलों के नेताओं ने आज संसद से विजय चौक तक पैदल मार्च निकाला। जिसमें पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) भी विपक्ष के पैदक मार्च में शामिल हुए। इस दौरान नेताओं ने हाथों में पोस्टर/ बैनर ले रखे थे।

संसद परिसर में मौजूद गांधी स्टैच्यू के पास से पैदल मार्च निकाला गया। इस मौके पर राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने कहा कि संसद में विपक्ष को बात करने का मौका नहीं दिया गया। सदन में लोकतंत्र की हत्या हुई है, जनता की आवाज दबाई जा रही है, देश की 60% जनता की आवाज नहीं सुनी गई।

Rahul Gandhi
Rahul Gandhi

कांग्रेस सांसद ने कहा, हमने सरकार से पेगासस पर बहस करने के लिए कहा, लेकिन सरकार ने पेगासस पर बहस करने से मना कर दिया। हमने संसद के बाहर किसानों का मुद्दा उठाया और हम आज यहां आपसे (मीडिया) बात करने आए हैं क्योंकि हमें संसद के अंदर नहीं बोलने दिया गया। ये देश के लोकतंत्र की हत्या के बराबर है।

पैदल मार्च के बाद सभापति से करेंगे मुलाकात 

वहीं, शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा कि बीते दिनों राज्यसभा में मार्शल लॉ लगाया गया, ऐसा लग रहा था कि हम पाकिस्तान की सीमा पर खड़े थे। सरकार हर दिन लोकतंत्र की हत्या कर रही है, हम इस सरकार के खिलाफ लड़ते रहेंगे। पैदल मार्च से पहले, विपक्षी पार्टियों के नेताओं ने कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे के आवास पर बैठक की, मार्च के बाद सभी विपक्षी नेता राज्यसभा के सभापति वैंकेया नायडू से मुलाकात करेंगे।

यह भी पढ़ें: तालिबान-अफगान महिलाओं को बना रहा sex slave, जबरन घरों से अगवा की जा रही महिलाएं

(Puridunia हिन्दीअंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)…

Related Articles