विपक्ष किसानों पर बना रहा दबाव, केंद्र सरकार आगे बातचीत के लिए तैयार: हरदीप सिंह

किसानों के पास इसके अलावा कोई और शिकायत है तो केंद्र सरकार उनसे आगे की बातचीत करने के लिए भी तैयार है।

चंडीगढ़: केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने तीन कृषि संशोधित बिलों पर बात करते हुए कहा कि केंद्र ने किसानों की एमएसपी या मंडियों से जुड़ी सभी प्रमुख चिंताओं का निवारण किया है। किसानों के पास इसके अलावा कोई और शिकायत है तो केंद्र सरकार उनसे आगे की बातचीत करने के लिए भी तैयार है।

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा सभी मांगों को मानने के बाद तीनों विधेयकों को निरस्त करने की मांग की जा रही है। केंद्र अभी भी बातचीत करने के लिए हर समय तैयार है। पुरी ने बुधवार को वर्चुअल सम्मेलन में संबोधित करते हुए कहा कि पंजाब और हरियाणा के मुख्यमंत्रियों के रूप में प्रकाश सिंह बादल और भूपिंदर सिंह हुड्डा ने यूपीए सरकार के समय में कृषि क्षेत्र में विपणन में सुधारों का समर्थन किया था।

ये भी पढ़ें : महान नेत्री है पूर्व प्रधानमंत्री इन्दिरा गांधी, दुनिया ने माना लोहा: कांग्रेस

बादल और हुड्डा दोनों कर रहे विरोध

जबकि सभी सुधारों पर लंबे समय से बहस और चर्चा हो रही थी। उन्होंने कहा कि जब एनडीए सरकार ने कानून बनाया है, तो बादल और हुड्डा दोनों इसका विरोध कर रहे हैं। जब विधेयक को संसद में चर्चा के लिए लाया गया तो सदन में दो मतों, एमएसपी और मंडियों पर आशंका व्यक्त की गई। दोनों मामलों में सरकार ने सदन को आश्वासन दिया था कि एमएसपी और मंडियां हमेशा की तरह काम करती रहेंगी। एमएसपी पर भ्रामक धारणा को दूर करने के लिए केंद्र ने इस बार उच्च दर पर धान की खरीद को रोक दिया और पिछले वर्ष की तुलना में 20 प्रतिशत अधिक खरीद की।

ये भी पढ़ें : आप का बादल पर तंज, भाजपा को टुकड़े-टुकड़े गैंग बताने वाले कभी रहे है हिस्सा 

केंद्र सरकार किसान नेताओं से आगे भी बातचीत करने को तैयार

उन्होंने बताया कि केंद्र सरकार ने किसान नेताओं के साथ अब तक चार दौर की बातचीत की है और आगे भी बातचीत के लिए तैयार है। सभी किसान नेता इस बात से सहमत हैं कि उनकी शिकायतों का समाधान कर दिया गया है, लेकिन विपक्षी व असमाजिक तत्वों द्वारा उन पर दबाव डाला जा रहा है कि वे अपना आंदोलन वापस न लें।

 

Related Articles

Back to top button