गोपालगंज में मनरेगा के कार्यपालक अभियंता सहित दस पर एफआईआर का आदेश

बिहार में गोपालगंज जिले के भोरे प्रखंड के चकरवां खास पंचायत में मनरेगा की चार योजनाओं में बगैर कार्य कराए 27.42 लाख की राशि के गबन के मामले में मनरेगा के कार्यपालक अभियंता समेत दस लोगों पर एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया गया है।

गोपालगंज: बिहार में गोपालगंज जिले के भोरे प्रखंड के चकरवां खास पंचायत में मनरेगा की चार योजनाओं में बगैर कार्य कराए 27.42 लाख की राशि के गबन के मामले में मनरेगा के कार्यपालक अभियंता समेत दस लोगों पर एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया गया है। आधिकारिक सूत्रों ने शनिवार को बताया कि वर्ष 2018 में भोरे प्रखंड के चकरवां खास पंचायत में महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी (मनरेगा) योजना के तहत चार योजनाओं पर कार्य करने की स्वीकृति दी गई थी।

विभाग के आंकड़ों में इस कार्य को पूर्ण दिखाकर 27.42 लाख रुपये की राशि की निकासी कर ली गई। इसी बीच प्रशासन को इस बात की सूचना मिली कि चकरवां खास पंचायत में जिन योजनाओं को पूर्ण दिखाया गया है। वह तमाम योजनाएं सांसद और विधायक मद से कराई गई हैं। इस सूचना के बाद पूरे मामले की जांच का आदेश दिया गया। जांच में खुलासा हुआ कि चारों योजनाओं में राशि की बंदरबांट की गई है। साथ ही योजनाओं को स्वीकृति देने में भी निर्धारित नियम का उल्लंघन किया गया है।

ये भी पढ़ें : नववर्ष पर रेलवे देगा आधुनिक वेबसाइट का तोहफा,टिकट बुकिंग से लेकर मिलेंगी ये सुविधाएं

डीडीसी ने सभी संबंधित अधिकारियों से स्पष्टीकरण की मांग

जांच रिपोर्ट आने के बाद उप विकास आयुक्त (डीडीसी) ने सभी संबंधित अधिकारियों और कर्मियों से स्पष्टीकरण की मांग की है। स्पष्टीकरण के बाद डीडीसी सज्जन आर ने मनरेगा के कार्यपालक अभियंता सहित दस लोगों के विरुद्ध कानूनी कार्रवाई करने का आदेश दिया है। साथ ही कार्यपालक अभियंता जैर अहमद तथा भोरे प्रखंड में तैनात रहे मनरेगा के तत्कालीन कार्यक्रम पदाधिकारी प्रकाश कुमार श्रीवास्तव की संविदा को रद करने की अनुशंसा विभाग को की।

ये भी पढ़ें : गोण्डा में ओवरब्रिज का निर्माण कार्य शुरू, बहराइच जाने के लिये मार्ग परिवर्तन

सभी दस आरोपित के विरुद्ध होगी कार्रवाई

डीडीसी ने इस गबन मामले में संलिप्तता के आधार पर जगतौली पंचायत के मुखिया विजय कुमार तिवारी के विरुद्ध पंचयती राज विभाग को कार्रवाई करने की अनुशंसा की। इनके अलावा मनरेगा के कंप्यूटर ऑपरेटर राज रजनीश, पंचायत रोजगार सेवक चंदन प्रकाश, तत्कालीन पंचायत रोजगार सेवक अनिल कुमार, पंचायत तकनीकी सहायक राजेश्वर कुमार, तत्कालीन कनीय अभियंता जयप्रकाश चौधरी तथा लेखापाल दीपक कुमार की संविदा को रद करने का आदेश दिया। सभी दस आरोपित के विरुद्ध गबन की गई राशि की वसूली के लिए निलाम पत्र वाद दाखिल करने का आदेश दिया गया है। जिनके विरुद्ध निलाम पत्र वाद दाखिल किया जाएगा, उनमें चकरवां खास पंचायत के मुखिया विजय कुमार तिवारी तथा भोरे का एक प्राइवेट कंप्यूटर ऑपरेटर रमेश कुमार भी शामिल है।

Related Articles