IPL
IPL

नमाज और चंदे पर ओवैसी ने दे डाला ऐसा बयान की मच गया बवाल

हैदराबाद: ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) प्रमुख और हैदराबाद (Hyderabad) के सांसद असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने अयोध्या (Ayodhya) में बनने वाली मस्जिद को लेकर एक बयान दिया है जिसके बाद विवाद बढ़ गया है। ओवैसी ने कहा है कि अगर कोई अयोध्या में 5 एकड़ ज़मीन पर बन रही मस्जिद में नमाज पढ़ता है तो वह ‘हराम’ मानी जाएगी। ऐसी मस्जिद में नमाज़ पढ़ना और चंदा देना दोनों ही हराम है। ओवैसी अयोध्‍या के धन्‍नीपुर में बनने वाली मस्जिद इस्‍लाम के सिद्धांतों के खिलाफ है।

‘वो मस्जिद नहीं बल्कि ‘मस्जिद-ए-ज़ीरार’ है’

इस बयान के बाद मस्जिद ट्रस्‍ट के सचिव ने अपनी नाराजगी जताते हुए इस बयान को राजनीतिक एजेंडे से जुड़ा हुआ बताया है। दरअसल, असदुद्दीन ओवैसी 26 जनवरी को कर्नाटक के बीदर में ‘सेव कॉन्स्टिट्यूशन-सेव इंडिया’ कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने मंच से कहा कि जो बाबरी मस्जिद के बदले 5 एकड़ ज़मीन पर मस्जिद बनवा रहे हैं, हकीकत में वो मस्जिद नहीं बल्कि ‘मस्जिद-ए-ज़ीरार’ है। ऐसी मस्जिद में नमाज़ पढ़ना हराम है।

ओवैसी ने भाजपा पर साधा निशाना

ओवैसी ने भाजपा (BJP) पर निशाना साधते हुए कहा कि दिल्ली में बैठने वाला कोई बादशाह नहीं है। कई लोग मोदी भक्ति में लीन है ऐसे लोगों को मैं याद दिलाना चाहूंगा कि सावरकर और गोडसे गांधी से डरते थे। अंबेडकर के संविधान ने हमें ताकत दी है। इसके अलावा ओवैसी ने नेताजी का जिक्र करते हुए कहा कि जिसने जय हिंद नारे को गढ़ा वह हैदराबाद का मुसलमान था।

बता दें कि नवंबर 2019 में सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या के राम मंदिर के पक्ष में फैसला सुनाया था। इसके साथ ही कोर्ट ने सुन्नी वक्फ बोर्ड को मस्जिद बनाने के लिए अयोध्या में दूसरी जगह पांच एकड़ जमीन देने का आदेश दिया। इसके बाद वक्फ बोर्ड को अयोध्या के धन्‍नीपुर गांव में जमीन दी थी, जहां मस्जिद का निर्माण किया जा रहा है। इसे लेकर ही असदुद्दीन ओवैसी ने बयान दिया है।

यह भी पढ़ें: राकेश टिकैत ने खोया आपा, पत्रकारों के सामने युवक पर जड़ दिया तमाचा

Related Articles

Back to top button