कम्बाइन हार्वेस्टर के बिना धान काटने पर होगी कर्यवाही, पकड़े जाने पर कम्बाइन होगी सीज

कम्बाइन हार्वेस्टर

 

बस्ती: उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले में अगर कम्बाइन हार्वेस्टर के बिना कम्बाइन को धान की फसल काटे जाते हुए पाया गया, तो कम्बाइन को सीज कर दिया जायेगा। साथ ही कम्बाइन के मालिक के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

फसल अवशेष प्रबन्धन के अन्य यंत्रों को प्रयोग न करने पर होगी कार्यवाही

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक गोंडा जिले में अगर फसल अवशेष प्रबन्धन के अन्य यंत्रों को प्रयोग में लाये बिना कटाई का कार्य किया जायेगा, तो कम्बाइन हार्वेस्टर को सीज कर दिया जायेगा। साथ ही कम्बाइन हार्वेस्टर मालिक के खिलाफ प्रदूषण फैलाने के चलते कार्यवाही की जाएगी।

ग्राम प्रधान,लेखपाल एवं अन्य सम्बन्धित विभाग के कर्मचारियों को सौपी गई सूचना देने की जिम्मेदारी

ग्रामीण इलाको में फसल अवशेषों को जलाने पर दोषी के खिलाफ दंडात्मक कार्यवाही होगी। इसके साथ ही अन्य किसी जगह आग जलने की घटनाओं के प्रकाश में आने पर दोषी के खिलाफ कार्यवाही होगी। कार्यवाही के लिए सूचना की जिम्मेदारी ग्राम प्रधान, लेखपाल एवं अन्य सम्बन्धित विभाग के कर्मचारियों को सौपी गई है। कही किसी प्रकार की आग जलने की घटना प्रकाश में आने पर दोषी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की जायेगी। साथ ही दोषी को हर्जाने के तौर पर पेनल्टी भुगतनी पड़ेगी।

अपराध दोहराने पर कारावास के साथ अर्थदण्ड भी पड़ सकता देना

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक अधिकारियों ने बताया की राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण अधिनियम की धारा-24 एवं 26 के तहत खेत में पराली या फसल अवशेष जलाना दण्डनीय अपराध है। पर्यावरण क्षतिपूर्ति के लिये 2 एकड़ से कम क्षेत्र के लिए 2500 रूपया प्रति घटना, 2 एकड़ 5 एकड़ के लिए 5000 प्रति घटना, 5 एकड़ से अधिक क्षेत्र के लिए 15000 तथा अपराध को दोहराने पर कारावास भी हो सकता है अपराध दोहराने पर कारावास के साथ अर्थदण्ड भी देना पड़ सकता है।

घटना को छिपाने पर ग्राम प्रधान पर भी होगी कार्यवाही

ग्राम प्रधान द्वारा फसल अवशेष जलाये जाने की घटना को उच्च अधिकारियों को न बताने या घटना को छिपाये जाने पर दोषी के साथ प्रधान को भी फसल अवशेष जलाने का दोषी माना जाएगा।

ये भी पढ़े: प्रदेश में बंद होंगे सरकारी मदरसे, शिक्षा मंत्री बोले ‘जनता के पैसों की फिजूलखर्ची अब नहीं’

Related Articles

Back to top button