PAK vs NZ: अजहर (Azhar) शतक से चूके, जैमिसन (Jamieson) ने लगाया पंजा

टिम साउदी (Tim Southee) ने सलामी बल्लेबाज शान मसूद को खाता खोले बिना आउट कर पाकिस्तान को पहला झटका दिया।

स्पोर्ट्स डेस्क: शीर्ष क्रम के बल्लेबाज अजहर अली (Azhar Ali) न्यूजीलैंड (New zealand) के खिलाफ दूसरे टेस्ट के पहले दिन शतक बनाने से चूक गए। लेकिन उनकी इस शानदार पारी की बदौलत पाकिस्तान (Pakistan) ने पहली पारी में 297 रन का सम्मानजनक स्कोर बना लिया। न्यूजीलैंड की तरफ से तेज गेंदबाज काइल जैमिसन (Kyle Jamieson) ने शानदार गेंदबाजी की और 69 रन पर 5 विकेट निकाले।

शुरुआत में लगा झटका

न्यूजीलैंड ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला किया और टिम साउदी (Tim Southee) ने सलामी बल्लेबाज शान मसूद को खाता खोले बिना आउट कर पाकिस्तान को पहला झटका दिया। शुरुआती झटका लगने के बाद आबिद अली ने अजहर के साथ पारी को आगे बढ़ाया और दोनों बल्लेबाजों के बीच दूसरे विकेट के लिए 62 रन की साझेदारी हुई।

ढेर हुई पाकिस्तान की पारी

यह साझेदारी और बड़ी होती उससे पहले ही जैमिसन ने आबिद को साउदी के हाथों कैच कराकर उनकी पारी का अंत कर दिया। आबिद ने 53 गेंदों में तीन चौकों की मदद से 25 रन बनाए। आबिद का विकेट गिरने के बाद पाकिस्तान की पारी एक बार फिर लड़खड़ाई और जैमिसन ने हैरिस सौहेल को 1 और फवाद आलम 2 रन बनाकर पवेलियन भेज पाकिस्तान का स्कोर चार विकेट पर 83 रन कर दिया।

इसके बाद अजहर ने कप्तान मोहम्मद रिजवान के साथ पारी को गति देने की कोशिश की और दोनों बल्लेबाजों के बीच पांचवें विकेट के लिए 88 रन की साझेदारी हुई। जैमिसन ने एक बार फिर अपनी शानदार गेंदबाजी का परिचय दिया और रिजवान को वाटलिंग के हाथों कैच कराकर आउट कर दिया। रिजवान ने 71 गेंदों में 11 चौकों की मदद से 61 रन बनाए।

शतक से चूके अजहर

अजहर ने इसके बाद फहीम अशरफ के साथ साझेदारी की और दोनों बल्लेबाजों ने छठे विकेट के लिए 56 रन जोड़े। हालांकि अजहर मैट हेनरी की गेंद पर रॉस टेलर को कैच थमा बैठे और शतक से चूक गए। अजहर ने 172 गेंदों में 12 चौकों के सहारे 93 रन बनाए।

अजहर के आउट होने के बाद पाकिस्तान की पारी ज्यादा देर नहीं टिक सकी और 83.5 ओवर में 297 रन पर ऑलआउट हो गई। पाकिस्तान की पारी में फहीम ने 88 गेंदों में आठ चौकों की मदद से 48, जफर गोहार ने 62 गेंदों में छह चौकों के सहारे 34, नसीम शाह ने 12 और शाहीन आफरीदी ने चार रन का योगदान दिया।

यह भी पढ़ें: ‘रामप्रसाद की तेरहवीं’ Review: दिल को छू लेने वाली यह फिल्म बिखेर देगी चेहरे पर मुस्कान

Related Articles

Back to top button