पाकिस्‍तान सरकार को करीमा के शव से लगा डर, पीएम मोदी को मानती थी भाई

इस्लामाबाद: बलूचिस्तान की सबसे लोकप्रिय नेता करीमा बलूच (Karima Baloch) की मौत हो गई और उनके शव को तुरबत इलाके में बेहद सख्त सुरक्षा इंतजामों के साथ दफनाया गया। करीमा बलूच (Karima Baloch) भारत देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपना भाई मानती थी। करीमा बलूच करीब पांच साल से कनाडा में रह रहीं थी उनकी मौत होने के बाद उनके शव को पाकिस्तान लाया गया। कराची एयरपोर्ट से उनके शव को सुरक्षाकर्मियों ने बलूचिस्तान पहुंचाया गया।

सबसे बड़ा सवाल है कि पाकिस्तान सरकार आखिर क्यों करीमा के मौत के बाद भी उनके शव से डरी हुई है। इमरान सरकार ने इलाके के सभी मोबाइल सेवा को बंद कर दिया और हर तरफ भारी हथियारों से लैस अर्द्धसैनिक बलों के जवानों को तैनात कर दिया। सिर्फ इतना ही नहीं उसने करिमा बलूच के परिवार को शव देखने नहीं दिया। उनके परिवार और स्‍थानीय लोगों को कब्रिस्तान जाने से रोक दिया। करीमा बलूच को भारी सुरक्षा इंतजामों के बीच दफना दिया गया।

ये भी पढ़ें : गणतंत्र दिवस पर किसानों की ट्रैक्टर रैली, सुबह 6 बजे से नहीं चलेगी बसें

पाक सरकार ने शव का किया अपहरण

उधर, कराची में हजारों लोगों ने सड़कों पर उतरकर करीमा की हत्या की निंदा की और कहा कि उनकी विचारधारा को खत्म नहीं किया जा सकता है। मेहराब ने कहा कि बहन के जिंदा रहने पर हमे डर लगता था की उन्हें की पाकिस्तान उनका अपहरण कर लेगी लेकिन हमे नहीं पता था कि उनके पाकिस्तान उनके शव का भी अपहरण कर लेगी। सोमवार को संसद में बलूचिस्तान नेशनल पार्टी-मेंगल (बीएनपी-एम) के सांसद डॉ. जहानजेब जमालदिनी ने कहा कि करीम के शव को एयरपोर्ट से अगवा कर लिया गया और उनके पैतृक गांव तक किसी को जाने की अनुमति नहीं दी गई।

ये भी पढ़ें : 26 जनवरी को अयोध्या में तिरंगा फहराकर रखी जाएगी मस्जिद की नींव

उन्होंने कहा कि करीमा को हर कोई विदाई देने जाना चाहता था लेकिन मकरान में कर्फ्यू लगा दिया गया और सभी मोबाइल नेटवर्क को बंद कर दिया गया, मीडिया ने भी इस खबर को नहीं दिखाया। सासंद ने अपने बयान में कहा, ”सिक्यॉरिटी एजेंसियां एक कब्र के शव से डरी हुई हैं।” जमालदिनी ने कहा कि पूरे बलूचिस्तान में करीमा के लिए नमाज अदा की जा रही थी। उन्होंने पूछा, ”क्या यह न्याय है? क्या यह मानवाधिकार हैं? करिमा लड़ने या माकरान को जीतने नहीं आई हैं।”

 

 

Related Articles