पीएम की बढीं मुश्किलें, कोर्ट ने राहत देने से किया इनकार

0

इस्लामाबाद| पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री की मुसीबत कम होती नजर नहीं आरही है। 28 जुलाई को आये में पनामा पेपर्स मामले में नवाज की समिक्ष की अर्जी पाकिस्तान न्यायलय ने ख़ारिज कर दी है। समीक्षा के लिए नवाज और उनके बच्चों ने अर्जी लगायी थी। डॉन ऑनलाइन के अनुसार, अदालत ने सभी याचिकाकर्ताओं के वकीलों की बहस पूरी होने के बाद समीक्षा याचिकाओं पर फैसला सुरक्षित रख लिया था।

न्यायाधीश आसिफ सईद खोसा की अध्यक्षता वाली पांच जजों की पीठ ने मामले की सुनवाई की।  इस मामले में अदालत के 28 जुलाई को आए फैसले में नवाज शरीफ को प्रधानमंत्री पद से अपदस्थ कर दिया गया था और शरीफ, उनके बच्चों बेटे हुसैन और हसन और बेटी मरियम नवाज, दामाद मोहम्मद सफदार और वित्त मंत्री मोहम्मद डार के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोप तय करने के निर्देश दिए थे।

आपको बता दें पाक सुप्रीम कोर्ट ने पनामा मामले में नवाज शरीफ को दोषी ठहराय था जिसके बाद उन्हें प्रधानमंत्री पद छोड़ना पड़ा।  कोर्ट ने शरीफ के परिवार विदेशों में कालाधन अर्जित करने का दोषी पाया था। नवाज़ के कालेधन के खिलाफ संयुक्त जांच दल (जेआईटी) ने जांच की थी और अपनी रिपोर्ट में नवाज़ शरीफ के परिवार के खिलाफ आरोप को सही पाया था। सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा था कि प्रधानमंत्री ने संसद से बेईमानी की है और अदालत ये समझता है कि वो अब अपने पद पर बन रहे के लायक नहीं हैं।

loading...
शेयर करें