देश को चलाने की जगह देश की सुरक्षा पर ध्यान दे पाकिस्तानी सेना

पाकिस्तानी सेना देश को चलाने की जगह अपने कार्यो पर ध्यान दे तो ज्यादा बेहतर रहेगा। शीर्ष वैज्ञानिक परवेज हुदभॉय ने पाकिस्तान की लगाम सेना के हाथ में होने पर सवाल उठाते हुए कहा। पाकिस्तान की आवश्यकताए लोगों के हितों पर होनी चाहिए, न कि किसी धर्म पर। इसके साथ ही परवेज ने कहा कि हमें ऐसा देश चाहिए जहां पर बलोच, सिंधी, पठान और पंजाबी सभी के हितों का ध्यान रखा जाए।

कराची में साहित्यिक कार्यक्रम ‘आदाब महोत्सव’ के दौरान हुदभॉय ने कहा, पाकिस्तान को उसके नागरिकों के लिए बनाया गया था, न कि नागरिक उसके लिए। हमें पाकिस्तान के लिए किसी विचारधारा की जरूरत नहीं है। बल्कि हमारा पाकिस्तान बिना किसी विचारधारा के आगे बढ़ सकता है।
इस पर उन्होंने बांग्लादेश का उदाहरण देते हुए कहा, जो 1971 से पहले पूर्वी पाकिस्तान के तौर पर जाना जाता था, उसकी अर्थव्यवस्था भी पाकिस्तान से कहीं बेहतर है।

आगे बात करते हुए कहते है कि बांग्लादेश किसी विचारधारा को नहीं मानता। न ही किसी विचारधारा पर चलता है। बांग्लादेश की फॉरेन एक्सचेंज हमसे चार गुना बेहतर है। उनका जीवन सूचकांक भी कहीं ज्यादा बेहतर है। पाकिस्तानी सरकार को लोगों की भलाई के लिए काम करना चाहिए।

बता दें कि इससे पहले, हुदभॉय ने 2017 में पाकिस्तान पर फासीवादी धार्मिक देश बनने का आरोप लगाया था।

Related Articles