पंजाबी मुंडे पर आया पाकिस्तानी लड़की का दिल,पटियाला में रचाई शादी

0

नई दिल्ली : भारत-पाकिस्तान के बीच मौजूदा हालात तनाव पूर्ण हैं। दोनों देशों में तल्खी इतनी बढ़ी हुई है कि दोनों देश एक दूसरे से बात-चीत के लिए भी राजी नहीं हैं लेकिन प्यार पर किसका जोर चला है। प्यार किसी भी सरहद को नहीं मानता है, वो तो अपनी राह खुद ढूंढ लेता है। एक ओर जहां भारत और पाकिस्तान दोनों देश एक दूसरे के जानी दुश्मन बने हुए हैं तो वही अंबाला के परविंदर और सियालकोट की एक लड़की ने सारे सरहदों को तोड़ते हुए शादी के बंधन में बंधने का फैसला किया।


33 साल के परविंदर अंबाला के तेपाला गांव के रहने वाले हैं। उन्होंने 27 साल की किरण सरजीत से सिख परंपराओं के अनुसार शादी की। बता दें कि दोनों की सगाई 2016 में ही हो गई थी। 2016 में किरण पटियाला के समाना में अपने मामा के घर आई थी। इसी दौरान उनकी मुलाकात परविंदर से हुई। फिर क्या था, आखें मिली और  दोनों को पहली नजर में ही प्यार हो गया।

परविंदर ने कहा कि ”सरजीत को मैं लंबे समय से जानता हूं क्योंकि वह मेरी चाची की दूर की रिश्तेदार हैं।” परविंदर ने आगे कहा, ”उनका परिवार 1947 में विभाजन के दौरान सियालकोट चला गया था। वह पाकिस्तान के एक निजी स्कूल में पढ़ा रही थी। परिवार 45 दिन के वीजा पर भारत आया था।” पुलवामा आतंकी हमले के बाद परविंदर काफी परेशान हो गए थे। किरण और उनका परिवार समझौता एक्सप्रेस के रद्द किए जाने के कारण सियालकोट से भारत नहीं आ पाए थे। किरण के पिता सुरजीत सिंह चीमा और मां सुमेरा चीमा के रिश्तेदार पंजाब और हरियाणा में रहते हैं। आज शादी के वक्त किरन के साथ उसकी बहन रमनजीत चीमा, भाई अमरजीत सिंह चीमा, बलजिंदर कौर भी मौजूद थे।

शादी के बाद परविंदर ने कहा कि “मैं खुश हूं। मैं भारत सरकार से अनुरोध करता हूं कि वह अंबाला के लिए मेरी पत्नी को वीजा प्रदान करे जिससे वह मेरे माता-पिता के घर पर मेरे साथ रह सके। फिलहाल में उसके पास केवल पटियाला के लिए वीजा है। हालाकि फिलहाल उसके साथ रहने के लिए पटियाला में किराए पर घर लिया है। मुझे उम्मीद है कि भारत सरकार जल्द से जल्द इस मुद्दे को सुलझा लेगी।”

loading...
शेयर करें