लाचार हो रही पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था, पाकिस्तानी लोगों में बना द्वेष

पाकिस्तान लगातार बढ़ते दिनों में गरीब होते जा रहा है। पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था बुरी तरह लड़खड़ा रही है। देश कर्ज के बोझ से दिवालिया होने की कगार पर है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को सत्ता में आने के करीब एक साल बाद लोगों के गुस्से का सामना करना पड़ रहा है। इसकी वजह पाकिस्तान की बुरी तरह से गिरती अर्थव्यवस्था है।

पाकिस्तानी रुपया टूटने से लोगों ने दिखाया गुस्सा

पिछले साल जुलाई में सत्ता में आने के बाद से इमरान को भुगतान संतुलन और खस्ताहाल आर्थिक स्थितियों से जूझना पड़ रहा है। वित्तीय संकट से जूझ रहे पाकिस्तान में चीजों के दाम तेजी से बढ़ रहे हैं। जिससे डॉलर के मुकाबले पाकिस्तानी रुपया 30 फीसदी तक टूट गया है और मुद्रास्फीति की दर करीब नौ फीसदी पर है। इसके अभी और बढ़ने की आशंका है।
कराची की रहने वाली शमा परवीन ने बताया कि, ‘टमाटर की कीमतें आसमान छू रही हैं। वहीं, 60 वर्षीय मोहम्मद अशरफ ने कहा कि, ‘मुझे अपने खर्चों को पूरा करने के लिए रोजाना कम से कम 1,000 रुपये कमाने की जरूरत है। इन दिनों मैं मुश्किल से पांच-छह सौ रुपये बचा पा रहा हूं। अगर मैं बीमार पड़ गया तो कैसे दवा और इलाज का खर्चा उठाना मुश्किल हो जाएगा।’
अब लड़खड़ाती अर्थव्यवस्था से जरूरी चीजों की कीमतें बढ़ गई है। ना सिर्फ पेट्रोल और डीजल, बल्कि पाकिस्तान में आलू और टमाटर जैसी अन्य कई सब्जियों के दामों ने आसमान छू लिया है। सच तो यह है कि पाक सरकार अवाम को आर्थिक सुरक्षा प्रदान नहीं कर पाई। आज भी चार करोड़ से अधिक लोग बेरोजगार हैं।
बता दें कि इस महीने की शुरुआत में कारोबारियों ने एक दिन की हड़ताल भी की थी और करीब 8,000 लोगों ने बढ़ती कीमतों के खिलाफ मार्च किया था। 32 वर्षीय स्नातक ने बताया कि, ‘यह सरकार पूरी तरह से नाकाम साबित हुई है। यह देश को दिन प्रति दिन गरीब बना रही है।’
एक साल में पड़ोसी मुल्क ने 16 बिलियन डॉलर ( 11,04,27,68,00,000 रुपये ) का कर्ज लिया है, जो कि एक साल में ली गई अब तक की सबसे ज्यादा राशि है। यह कर्ज पाकिस्तान ने पहले से लिए गए कर्ज को चुकाने के लिए और आयात बिलों का भुगतान करने के लिए लिया है। इसके साथ ही विश्लेषकों ने चेतावनी दी है, कि पाकिस्तान की जनसंख्या भी तेजी से बढ़ रही है।

Related Articles