IMF के इस कदम से क्या बिगड़ जाएगी पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था

इस्लामाबाद : मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान और अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) के बीच एक अरब डॉलर के लोन की किश्त जारी करने के लिए बातचीत का ताजा दौर अनिर्णायक रहा है। इस कड़ी में जानकारों के मुताबिक आईएमएफ ने पाकिस्‍तान को लोन देने से इनकार कर दिया है।

IMF ने रोकी लोन की अगली क़िस्त

द एक्सप्रेस ट्रिब्यून की रिपोर्ट के अनुसार, आईएमएफ के कहने पर इमरान खान सरकार ने बिजली और पेट्रोल-डीजल जैसी चीज़ों के दामों में बढ़ोतरी की थी लेकिन तब भी नतीजे निराशाजनक रहे। दरअसल, पाकिस्तान और आईएमएफ ने जुलाई, 2019 में छह अरब डॉलर के लोन के लिए करार किया था। जनवरी, 2020 में यह कार्यक्रम पटरी से उतर गया था। इस साल मार्च में यह कार्यक्रम फिर शुरू हुआ, लेकिन जून में यह फिर पटरी से उतर गया।

इस करार के तहत पाकिस्तान को अगली किश्‍त के रूप में एक अरब डॉलर दिया जाना था। एक्सप्रेस ट्रिब्यून के मुताबिक पाकिस्‍तान सरकार और आईएमएफ के बीच इस लोन को लेकर बात नहीं बन पाई है। आईएमएफ को कर्ज के लिए मनाने की खातिर पाकिस्‍तान के वित्‍त सचिव लंबे समय से वॉशिंगटन डीसी में डेरा डाले हुए हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, वह अगले कुछ दिनों के लिए और रुक सकते हैं, ताकि लोन पर सहमति बनाई जा सके।

यह भी पढ़ें : डीजीपी आवास से थोड़ी दूरी पर बवाल, आसिफ पर तलवार से ताबड़तोड़ प्रहार

Related Articles