Panchayat Election: इस बार निर्वाचन आयोग ने लगाई कई बंदिशें, अब सिर्फ इतना ही कर पाएंगे खर्च

बता दें कि प्रधान पद से लेकर जिला पंचायत अध्यक्ष ( District Panchayat President ) और ब्लाक प्रमुख से लेकर वार्ड मेंबर तक के प्रत्याशियों की चुनाव खर्च को लेकर मुश्किलें बढ़ गई हैं।

लखनऊ: उत्तर प्रदेश ( Uttar Pradesh ) में होने वाले त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव ( Panchayat Election ) को लेकर तैयारियां तेज हो गई हैं। लेकिन अभी इसकी तीरीखों की घोषणा नहीं की गई है। हालांकि चुनाव आयोग ने चुनावी खर्चों को लेकर गाइडलाइंस ( Guidelines ) जारी कर दी है। बता दें कि प्रधान पद से लेकर जिला पंचायत अध्यक्ष ( District Panchayat President ) और ब्लाक प्रमुख से लेकर वार्ड मेंबर तक के प्रत्याशियों की चुनाव खर्च को लेकर मुश्किलें बढ़ गई हैं। इस बार निर्वाचन आयोग द्वारा जारी की गई गाइडलाइंस में कई बंदिशें लगाई गई हैं। इसके तहत अब प्रत्याशियों को पाई पाई का हिसाब देना होगा।

सोच समझकर करना होगा खर्च

यूपी पंचायत चुनाव के मद्देनजर निर्वाचन आयोग ( Election Commission ) ने चुनावी खर्चों को लेकर नई गाइडलाइंस जारी कर दी है। चुनाव आयोग की इस गाइडलाइंस में उम्मीदवारों को सोच समझकर खर्च करना होगा, क्योंकि आयोग ने चुनावी खर्च की लिमिट काफी हद तक कम कर दी है। इससे अब सभी प्रत्याशियों की मुश्किलें बढ़ गई हैं।

क्या है चुनाव आयोग की गाइडलाइंस?

चुनाव आयोग ( Election Commission ) ने जो गाइडलाइंस जारी की है उसमें प्रधान पद के लिए चुनाव लड़ रहे उम्मीदवार इस बार सिर्फ 30 हजार रुपये तक ही खर्च कर सकते हैं। वहीं BDC सदस्य के लिए 25 हजार, वॉर्ड मेंबर 5 हजार, जिला पंचायत सदस्य और ब्‍लॉक प्रमुख के चुनावी खर्च के लिए 75 हजार रुपये की लिमिट रखी गई है। वहीं जिला पंचायत अध्यक्ष पद का उम्मीदवार दो लाख रुपये ही खर्च कर सकेंगे।

पहले मनमानी करते थे खर्च

बता दें कि पंचायत चुनाव को लेकर इससे पहले चुनाव में खर्च करने के लिए कोई लिमिट नहीं थी। चुनाव में प्रत्याशी अपनी मनमर्जी के मुताबिक खर्च करते थे। लेकिन अब आयोग ने इन पर बंदिश लगा दी है।

पाई पाई का देना होगा हिसाब

EC ( Election Commission ) की जारी गाइलाइंस से अब सभी प्रत्याशियों में खौफ बढ़ गया है। प्रत्याशियों को अब पाई पाई का हिसाब देना होगा। गाइडलाइंस में आयोग ने साफ कर दिया है कि चुनाव लड़ने वाले हर एक पद के उम्मीदवार को पूरा हिसाब देना होगा।

यह भी पढ़ें: अब खत्म हुआ Voter ID Card के इंतजार का झंझट, इस तरह फोन पर करें Download

Related Articles