उत्तर प्रदेश में जल्द होंगे पंचायत चुनाव, कल से शुरू होगी आंशिक परिसीमन

उत्तर प्रदेश में होने वाले पंचायत चुनाव का इंतजार अब जल्द ही खत्म होने वाला है। पंचायत चुनाव अब अगले वर्ष में जल्द ही शुरू होने वाला है। पंचायतों के आंशिक परिसीमन का शासनादेश जारी

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में होने वाले पंचायत चुनाव का इंतजार अब जल्द ही खत्म होने वाला है। पंचायत चुनाव अब अगले वर्ष में जल्द ही शुरू होने वाला है। पंचायतों के आंशिक परिसीमन का शासनादेश जारी, पंचायत चुनावों की तैयारियों की सारिणी जारी, 3-6 जनवरी तक निर्वाचन क्षेत्रों की अंतिम सूची। पंचायत चुनाव के आहट मात्र से ही सरपंचों पर भ्रष्टाचार के आरोपों की बौछार बढ़ गई है। आंशिक परिसीमन की प्रक्रिया 4 दिसम्बर 2020 से शुरू होकर अगले साल 6 जनवरी 2021 तक पूरी होगी।

राज्य के पंचायतीराज विभाग के अपर मुख्य सचिव मनोज कुमार सिंह ने बुधवार को आदेश जारी किया है। शासनादेश के अनुसार वर्ष 2011 की जनगणना के आधार पर ग्राम पंचायतवार जनसंख्या का निर्धारण 4 से 11 दिसम्बर के बीच किया जाएगा। आंशिक परिसीमन यूपी के उन 49 जिलों में होगा जिनके राजस्व ग्रामों की आबादी नगरीय क्षेत्र में शामिल होने से विभाजित है। 1 जनवरी 2016 से लेकर अब तक राज्य के 49 जिलों में नगर पंचायत, नगर पालिका परिषद, नगर निगम के सृजन या सीमा विस्तार के फलस्वरूप जिले में कतिपय विकास खण्ड या विकास खण्ड की ग्राम पंचायतें शहरी क्षेत्र में शामिल होने से प्रभावित हुई हैं।

ये भी पढ़े : थाने में नही चलेगा पुलिस का खेल, सुप्रीम कोर्ट की रहेगी तीसरी नजर

अपर मुख्य सचिव ने जारी किया आदेश

अपर मुख्य सचिव मनोज कुमार सिंह ने बुधवार को जो आदेश जारी किया है उसमे 12 से 21 दिसम्बर 2020 के बीच ग्राम पंचायत, क्षेत्र पंचायत व जिला पंचायत के वार्डों की प्रस्तावित सूची की तैयारी कर के उसका प्रकाशन किया जाएगा। इन वार्डों के निर्धारण पर आपत्तियां 22 से 26 दिसम्बर के बीच प्राप्त की जाएंगी। 27 दिसम्बर से 2 जनवरी 2021 के बीच आपत्तियों का निस्तारण कराया जाएगा। 3 से 6 जनवरी 2021 के बीच वार्डों की अंतिम सूची का प्रकाशन होगा।

ये भी पढ़े : महिला को नशीला पदार्थ खिलाकर किया रेप, दो के खिलाफ मुकदमा दर्ज

समिति करेगी आपत्तियों का निस्तारण

इन सभी वार्डों के संबंध में आपत्तियां जिला पंचायत कार्यालय में अपर मुख्य अधिकारी द्वारा प्राप्त की जाएंगी। जिला स्तर पर जिलाधिकारी की अध्यक्षता में गठित समिति द्वारा आपत्तियों का निस्तारण कराया जाएगा। इस समिति में मुख्य विकास अधिकारी और जिला पंचायत के अपर मुख्य अधिकारी सदस्य शामिल होंगे।

Related Articles