5G ट्रायल पर बने पैनल ने किया चीनी कंपनी huawei का विरोध

5G ट्रायल पर बना पैनल चीनी कंपनी हुवावे को ट्रायल प्रक्रिया में शामिल करने के पक्ष में नहीं है. टाइम्स ऑफ़ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार पैनल के एक सीनियर अधिकारी ने चीनी कंपनी का बैठक में विरोध किया है. रिपोर्ट के अनुसार चीन की कंपनी हुवावे का सुरक्षा कारणों से विरोध किया जा रहा है, साथ ही उसे चीन की पीपुल लिबरेशन आर्मी का करीबी माना जाता है.

पैनल को हेड कर रहे के विजय राघवन ने कहा कि भारत को 5जी के मामले में चीनी वेंडर को छोड़कर जल्द आगे बढ़ना चाहिए. इससे पहले चीनी कंपनी ने भारत को आश्वासन दिया था कि भारत को इस मामले में कोई भी संदेह नहीं करना चाहिए. चीनी कंपनी ने कहा कि भारत चाहे तो वह सुरक्षा को लेकर किसी भी शर्त मानने के लिए तैयार है.

पैनल के अध्यक्ष ने कहा कि अगर 5G ट्रायल में चीनी कंपनी को शामिल किया जाता है तो इसके फायदे और को नुकसान को समझने की तैयारी कर लेनी चाहिए. पैनल में इंटेलीजेन्स ब्यूरो (IB), विदेश मंत्रालय, गृह, टेलीकॉम और आईटी विभाग के अधिकारियों को भी शमिल किया गया है.

चीनी कंपनी हुवावे को चीनी सरकार के करीब होने की कारण संदेह की नज़रों से देखा जा रहा है. इससे पहले अमेरिका भी यह बात कहता रहा है. भारत यात्रा पर आये अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ भारत के 5G ट्रायल में अमेरिकी कंपनियों को शामिल करने की बात कही थी.

Related Articles