गोरखपुर डबल मर्डर : किसी अपने ने किया भरोसे का कत्ल!

double-murder-gorakhpur
वेद प्रकाश पाठक
गोरखपुर। शहर के विन्ध्यवासिनी नगर इलाके में बीती रात हुए डबल मर्डर की गुत्थी पुलिस के लिए एक नई चुनौती के रूप में सामने आई है। हांलाकि हालात ने पुलिस को कुछ खास संकेत भी दे दिये हैं।
ऐसा लग रहा है कि लूटपाट करने के बाद किसी अपने ने ही कुछ और हत्यारों के साथ मिलकर इंजीनियर और प्रधानाचार्या की हत्या की है। जांच की दिशा भी इसी लाइन के इर्द-गिर्द चल रही है। घर में केवल पति-पत्नी ही रहते थे।
अब पुलिस को सिर्फ इतना पता लगाना है कि वह तीसरा शख्स कौन था, जिसे घर में जाने की अनुमति थी। बहरहाल जांच को आगे बढ़ाने के लिए पुलिस पोस्टमार्टम रिपोर्ट का भी इंतजार कर रही है।
रेलवे में इंजीनियर संजय श्रीवास्तव (54) और एचपी चिल्ड्रेन एकेडमी की प्र्रिंसपल तूलिका श्रीवास्तव (50) की दिनचर्या में काम के अलावा आराम शामिल था। इकलौता बेटा पर्नव श्रीवास्तव मुंबई में रहता है। काम से लौटने के बाद यह दम्पत्ति घर के अंदर से ताला लगाकर आराम करता था। सुबह-सुबह तूलिका को घर से स्कूल ले जाने के लिए ड्राइवर जब गाड़ी का हार्न बजाता तो वह बाहर आ जाती थीं। आज ऐसा कुछ भी न हुआ। ड्राइवर हार्न बजाता रहा और कोई बाहर नहीं निकला।
शक होने पर जब उसने घर के भीतर झांका तो मकान के अंदर का दरवाजा खुला था। भीतर का सीन देखकर ड्राइवर बदहवास हो गया और चिल्लाने लगा। तब जाकर मोहल्ले के लोगों को पता चला कि इंजीनियर और प्रिंसिपल का मर्डर हो चुका है।
साथ में किसी ने चाय पी थी
पुलिस सूत्रों का दावा है कि दंपत्ति ने किसी के साथ रात में चाय पी थी। मर्डर कब हुआ यह तो पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद तय हो पाएगा लेकिन ऐसा लग रहा है कि घर के भीतर कोई अपना दाखिल हुआ था।
इस बात की भी पूरी आशंका है कि मर्डर करने के बाद वह मुख्य द्वार से ही निकला हो। मर्डर करने वालों की संख्या 2-3 होने का अंदेशा है। पुलिस इस तथ्य की पड़ताल में जुटी है कि कौन-कौन से विश्वसीनय लोगों का इस परिवार में आना जाना रहा है। घर के भीतर तीन चाय के कप मिले हैं और मुख्य दरवाजा खुली अवस्था में सटा हुआ पाया गया था।
हमेशा बंद रखते थे ताला
आसपास के लोगों का कहना है कि यह दम्पत्ति घर के भीतर से ताला लगाकर घर में रहता था। परिवार में सिर्फ कुछ रिश्तेदारों का आना जाना था। पुलिस सूत्रों का दावा है कि घर के भीतर का ताला तभी खुला होगा जबकि कुछ परिचित लोग आये हों। इस संभावना से भी इनकार नहीं किया जा रहा है कि कोई एक भरोसे का व्यक्ति अंदर रहा हो और बाकी हत्यारों की एंट्री उसने खुद दरवाजा खोलकर कराई हो।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button