मेरठ से प्रयागराज तक गंगा एक्सप्रेस-वे पर यात्रियों को मिलेंगी सुविधाएं : सतीश महाना

मेरठ से प्रयागराज तक गंगा एक्सप्रेस-वे पर यात्रियों को मिलेंगी सुविधाएं : सतीश महाना

लखनऊ : उत्तर प्रदेश सरकार ने कहा है कि मेरठ से प्रयागराज तक प्रस्तावित 594 किलोमीटर लम्बे गंगा एक्सप्रेस-वे पर यात्रियों को उत्कृष्ट श्रेणी की सुविधाएं प्राप्त होंगी। औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने मंगलवार को यहां मेरठ से प्रयागराज तक प्रस्तावित गंगा एक्सप्रेस-वे परियोजना के कार्यान्वयन की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि 594 किलोमीटर लम्बे इस एक्सप्रेस-वे पर यात्रियों को उत्कृष्ट श्रेणी की सुविधाएं प्राप्त होंगी। साथ ही एक्सप्रेस-वे की जद में आने वाले जिलों में औद्योगीकरण को रफ्तार भी मिलेगी। उन्होंने कहा कहा गंगा एक्सप्रेस-वे के निर्माण से जुड़ी सभी गतिविधियों में तेजी लाने और जिन प्रस्तावों को कैबिनेट से मंजूरी लेनी है, उसको शीघ्र तैयार कर प्रस्तुत करने के निर्देश दिए।

औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने कहा कि गंगा एक्सप्रेस-वे की लम्बाई लगभग 594 किलो मीटर होगी। यह एक्सप्रेस-वे छह लेन का होगा और इसे आठ तक विस्तारित किया जा सकेगा। इसमें 120 किलोमीटर प्रति घंटे की स्पीड से वाहन चल सकेंगे। इसके किनारे शाहजहांपुर के समीप हवाई पट्टी का निर्माण, गंगा नदी पर 960 मीटर एवं राम गंगा नदी पर 720 मीटर पुल प्रस्तावित है।

यह भी पढ़े : कोरोना की जंग में लापरवाही न बरतें देशवासी: माेदी

परियोजना की कुल अनुमानित

उन्होंने बताया कि इस एक्सप्रेस-वे पर मेरठ एवं प्रयागराज में एक-एक टोल प्लाजा तथा इसमें 15 रैम्प टोल प्लाजा का निर्माण किया जाना है। साथ ही एक्सप्रेस-वे के किनारे जन सुविधा परिसर का भी निर्माण कराया जायेगा। इस परियोजना की कुल अनुमानित लागत 36410 करोड़ है। इसमें से भूमि अधिग्रहण के लिए 9255 करोड़ रुपये व्यय होंगे।

यह भी पढ़े : महागठबंधन की सरकार बनी तो मंत्रिमंडल की पहली बैठक में ही 10 लाख युवाओं को देंगे रोजगार: तेजस्वी

वर्तमान वित्तीय बजट

औद्योगिक विकास मंत्री ने कहा कि 12 पैकेजों में विभक्त कर गंगा एक्सप्रेस-वे का निर्माण कराया जायेगा। इस परियोजना के बन जाने से 529 को लाभ मिलेगा। एक्सप्रेस-वे के निर्माण के लिये लगभग 7800 हेक्टअर भूमि का अधिगृहण किया जायेगा। उन्होंने कहा कि परियोजना के वित्त पोषण के लिए राज्य सरकार ने वर्तमान वित्तीय बजट में 1855 करोड़ रुपये का प्राविधान किया है। इसके अतिरिक्त हडको से 2900 करोड़ ऋण लिया जायेगा। आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे माॅनटाईजेशन(मुद्रीकरण) से 4500 करोड़ रुपये का वित्त पोषण प्राप्त होगा।

Related Articles