फॉर्मर director और कंपनी के आपसी विवाद से रुका पेटीएम का आईपीओ

नई दिल्ली : खबर है कि जल्द पब्लिक ऑफर लाने जा रही पेटीएम के एक फॉर्मर director ने कंपनी का को-फाउंडर होने के बावजूद शेयर्स में हिस्सेदारी न मिलने से नाराज़गी ज़ाहिर की है। इस कड़ी में फॉर्मर डायरेक्टर ने कंपनी पर मुकदा कर दिया है। इस कड़ी में अदालत ने पुलिस को तीन सप्ताह में जांच पूरी करने को कहा है।

चार साल director के तौर पर काम कर चुके हैं सक्सेना

इस कड़ी में अशोक कुमार सक्सेना ने अदालत को दिए अपने बयान  में कहा है कि उन्होंने लगभग दो दशक पहले पेटीएम में 27,500 डॉलर का इन्वेस्टमेंट किया था लेकिन उन्हें पेटीएम को ऑपरेट करने वाली कंपनी वन 97 कम्युनिकेशन्स ने उन्हें अबतक शेयर्स अलॉट नहीं किए हैं। इस कड़ी में कंपनी का कहना है कि यह दावा कपनी को बदनाम और परेशान करने के लिए किया गया है। इस दावे में कोई सच्चाई नहीं है। इस कड़ी में आपकी जानकारी के लिए बता दें की सक्सेना 2000 से 2004 तक कंपनी में डायरेक्टर थे।

अपने इस दावे के बाद उन्होंने सेबी से गुज़ारिश की है कि जब तक मसला हल नहीं हो जाता पेटीएम को आईपीओ जारी न करने दें। अलीबाबा की पोर्टफोलियो इन्वेस्टमेंट कंपनी पेटीएम की आईपीओ में वैल्यू मौजूदा समय में 25 अरब डॉलर है। इस मामले में दिल्ली की एक जिला अदालत ने पुलिस से तीन सप्ताह के अंदर जांच की रिपोर्ट देने को कहा है।

यह भी पढ़ें : पुलिस फोर्स में दाढ़ी रखने को लेकर इलाहाबाद हाई कोर्ट ने सुनाया फैसला, पढ़ें पूरा मामला

Related Articles