जिंदगी के नाम पर मौत का करोबार करने वालों का बड़ा खुलासा, कई जिंदगियों से किया खिलवाड़

0

देहरादून। लोगों को जिंदगी देने के नाम पर मौत की आग में झोंकने वाले तीन आरोपी गिरफ्तार कर लिये गए है। मामला उत्तराखंड के एक शहर का है, जहां यह आरोपी शहर में ब्रांडेड कंपनी के नाम पर नकली दवा बेचने का काम करते थे। पुलिस ने तीनों आरोपियों के खिलाफ पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है। पुलिस ने दो मेडिकल स्टोर संचालकों को गिरफ्तार करते हुए मामले की जांच शुरू कर दी है।

इस मामले में पुलिस ने एक मेडिकल स्टोर संचालक को कोतवाली में ही जमानत देकर छोड़ दिया जबकि दूसरे को कोर्ट में पेश किया जा रहा है।

क्या औऱ कहां का था मामला

आपको बताते चले कि कैडिला हेल्थ केयर लिमिटेड और लाइफ स्टार दवा कंपनी की शिकायतें मिल रही थी कि उनके रैपर का इस्तेमाल करके शहर में नकली दवा बेची जा रही हैं। इसकी शिकायत कंपनी ने स्वास्थ्य विभाग से की थी, जिस पर शनिवार को दवा कंपनी के प्रतिनिधियों ने ड्रग इंस्पेक्टर नीरज कुमार और सीआइयू (क्राइम इंटेलीजेंस यूनिट) की टीम के साथ शहर के मेडिकल स्टोर पर छापेमारी की थी।

टीम ने मलकपुर चुंगी पर स्थित देव ऋषि मेडिकल स्टोर पर छापेमारी की कार्रवाई करते हुए यहां से कैडिला, लाइफ स्टार कंपनी के रैपर में नकली स्किन लाइट क्रीम की पांच ट्यूब और गुड सेफ 200 टेबलेट के नौ पैकेट बरामद किए थे। इसके बाद टीम ने रामपुर चुंगी स्थित सुहेल मेडिकोज फर्म पर छापा मारा था। टीम ने यहां से भी कंपनी के रैपर में नकली दवाईयां पकड़ी थी।

कहां से हो रहा था यह काला कारोबार

आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि यह दवा उसने कुछ दिन पहले मुजफ्फरनगर की एक कंपनी के एजेंट से खरीदी थी, लेकिन आरोपी नकली दवाओं का बिल नहीं दिखा सके। इससे मेडिकल स्टोर संचालकों की बातों पर पुलिस को यकीन नहीं हो रहा।

पुलिस का कहना है कि बिल के आधार पर नकली दवा बेचने वाली कंपनी तक पहुंचने के प्रयास किए जाएंगे। इस पूरे गिरोह से जुड़े लोगों को बेनकाब किया जाएगा। वहीं रामपुर चुंगी पर स्थित मेडिकल स्टोर संचालक मुस्तकीम ने भी मुजफ्फरनगर की कंपनी से दवा मंगाई थी।

loading...
शेयर करें