भजन को लेकर लोगों के मन में गलत बातें

मुंबई। भक्तिपूर्ण गीतों को लेकर अपनी एक अलग पहचान बना चुके अनूप जलोटा को बचपन से ही भजन गाने का शौक था। उन्होंने अपने इस शौक को अपना करियर बना लिया और आज लोग उन्हें एक भजन गायक के रूप में जानते हैं। उनका मानना है कि भजन को लेकर लोगों के बीच गलत धारणा है। लोग समझते हैं कि भजन बुजुर्गो के लिए है, लेकिन जलोटा ने ‘निर्गुण भजन’ नामक अपना पहला अल्बम 14 वर्ष की उम्र में रिलीज किया था।

उन्होंने बताया, “मैं बचपन से भजन गा रहा हूं और इसके साथ बड़ा हुआ हूं।”उन्होंने कहा, “मैंने भजन से नाम, प्रसिद्धि, पैसा, सम्मान और प्यार कमाया है। अपनी सफलता की कहानी के पीछे मुड़कर देखता हूं तो मुझे लगता है कि लोगों में भजन को लेकर गलत धारणा है। पूजा करते हुए हम भगवान को ताजे फल-फूल चढ़ाते हैं। पूजा करते हुए भजन गाने से एकाग्रता और आध्यात्मिकता बनी रहती है।”

अनूप ‘ऐसी लागी लगन’, ‘मैया मोरी, मैं नहीं माखन खायो’ और ‘जग में सुंदर हैं दो नाम’ जैसे 3,000 से अधिक गीत और भजन गा चुके हैं।

उन्हें गाते हुए 55 वर्ष हो गए हैं, लेकिन उनका मानना है कि वह अब भी गायन में पारंगत नहीं हुए हैं।

जलोटा ने कहा, “मैं अब भी सीख रहा हूं। मुझे लगता है कि जो कुछ सीखें, पूरे तरीके से सीखना चाहिए। सीखने के लिए इतनी चीजें हैं कि इसके लिए यह जीवन कम पड़ता लगता। हमें हर दिन कुछ नया सीखना चाहिए।”

अनूप जलोटा एक फिल्म भी बना रहे हैं। उनकी फिल्म ‘मिस्टर कबड्डी’ अगस्त में रिलीज होने के लिए तैयार है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button