राजस्थान के इस मंदिर में शाम को नहीं जाते लोग, जांच करने पहुंचे लोगों के उड़ गए होश

0

लखनऊः राजस्थान के बाड़मेर से 30 किलोमीटर दूर एक गांव किराड़ू नाम का गांव है। यहां एक मंदिर स्थित है कहा जाता है कि 11वीं शताब्दी में किराड़ू परमार वंश की राजधानी हुआ करता थी। जो कोई भी इस जगह के बारे में जानता है उसके चेहरे पर किराड़ू के नाम दहशत पसर जाती है। किवदंतियों में ऐसा उल्लेख है कि बाड़मेर का यह एतिहासिक मंदिर श्रापित है।

इस मंदिर के बारे में कुछ किस्से-कहानियां मशहूर हैं उन्हें जानने के बाद लोग हैरत में पड़ जाते हैं। इस मंदिर के आस-पास रहने वाले लोग इस मंदिर से जुड़े अपशकुनों और श्रापों के बारे बताते हैं। ग्रामीणों के मुताबिक मंदिर के बाहर एक बड़ा सा पत्थर है कहा जाता है कि एक कुम्हारिन है जोकि एक ऋषि के श्राप के कारण पत्थर बन गई है।

इस मंदिर में शाम होते ही सन्नाटा पसर जाता है। जैसे ही सूरज ढलता है इंसान यहां आस पास भी नहीं जाता। कहते हैं जो भी शाम के बाद यहां रुकता है वो पत्थर बन जाता है। लोगों का कहना है कि यहां मौजूद सभी पत्थर किसी जमाने में इंसान हुआ करते थे। शायद इसी डर से आज तक किसी ने कानूनी कायदों को चुनौती देने की जुर्रत नहीं की।

19 शताब्दी में यहां भूकंप आया था जिसकी वजह से इस मंदिर को बहुत नुकसान पहुंचा। कई सालों तक वीरान रहने के कारण इस मंदिर का रख-रखाव नहीं हो पाया था। किराड़ू में कुल 5 मंदिर हैं, जिनमें से आज सिर्फ विष्णु और सोमेश्वर का मंदिर ही सही हालत में हैं। यहां मौजूद सभी मंदिरों में से सोमेश्वर मंदिर सबसे बड़ा है।

पैरानॉर्मल सोसाइटी ऑफ इंडिया के मेंबर चंद्रप्रकाश ने मंदिर की गैलेरी में घोस्ट मशीन यानी इलेक्ट्रो मैग्नेटिक फील्ड को मापने वाला एक उपकरण रखा। तो पाया कि यहां इंसानों के अलावा भी कोई दूसरी ताकत मौजूद है।

ये भी पढ़ें…..इन 5 बड़े कारणों की वजह से कुंवारी रहकर खुश हैं लड़कियां, नहीं करना चाहती शादी

लेकिन आज तक नकरात्मक ऊर्जा के बारे में आज तक कोई सही सबूत नहीं मिले हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि किराड़ू मंदिर वास्तुकला का अद्भुत नमूना है और घूमने-फिरने के लिए पूरी तरीके से सुरक्षित है।

loading...
शेयर करें