बाढ़ का कहर : पानी घटने के बाद स्वास्थ्य चुनौतियों से जूझने लगे लोग

नई दिल्ली : केरल में आई भयानक बाढ़ से लाखों लोग बेघर हो गए हैं। 350 से अधिक लोगों की मौत हो गई है। इस स्थिति से लड़ने के लिए केरल में युद्ध स्तर पर बचाव कार्य चल रहा है।

एस्टर डीएम हेल्थकेयर से जुड़े वालंटियर्स भी इस राहत कार्य में जोरों से जुड़े हैं। एस्टर वालंटियर्स केरल के दूरदराज इलाकों में मेडिकल जांच शिविर लगा रहे हैं और साथ ही लोगों के बीच कपड़े, कंबल, खाना, स्वच्छ पानी बांटा जा रहा है।

एस्टर आपदा साहयता संगठन में ऐस्टर डीएम हेल्थकेयर हॉस्पिटल्स की ओर से 300 से ज्यादा मेडिकल और नॉन-मेडिकल वालेंटियर्स काम कर रहे हैं।

संस्थापक अध्यक्ष व प्रबंध निदेशक डॉ. आजाद मूपन ने कहा कि भीषण बाढ़ की वजह से त्रासदी के इस दुर्भाग्यपूर्ण मौके पर बाढ़ पीड़ितों की समय रहते स्वास्थ्य संबंधी मदद करने के लिए मैं वालंटियर्स संगठन का आभार जताता हूं। मुझे गर्व है कि एस्टर वालंटियर्स मजबूत इरादों और निस्वार्थ भाव के साथ बाढ़ पीड़ितों की मदद कर रहे हैं।

एस्टर वालंटियर्स ने बाढ़ पीड़ितों के लिए ये सावधानियां बताई हैं-

1-पानी के पूरी तरह से सूखने के बाद ही घर वापसी करें।

2-जमीन में दबे बिजली उपकरणों को न चलाएं।

3-पीने के पानी की गुणवत्ता से समझौता न करें। तलाबों और कुओं का पानी न पिएं। बाढ़ के पानी से भीगे अनाज के इस्तेमाल से बचें। यदि कोई और उपाय न हो तो इसे ज्यादा देर तक पकाएं।

5-बुजुर्ग लोग खासकर डायबीटीज की बीमारी से पीड़ित लोग ज्यादा से ज्यादा घर पर रहें और गंदे पानी से बचें।

6-तेज बुखार, उल्टी-दस्त, खांसी, पीलिया, स्किन इंफेक्शन आदि जैसी बीमारियों को मामूली न समझें और तुरंत डॉक्टर की सलाह लें।

7-स्वयं सेवकों, स्वास्थ्य अधिकारियों और चिकित्सकों का सहयोग करें।

एस्टर आपदा सहायता के लिए नंबर भी दिए हैं-

1-कोच्चि (91,9446222135 व 91,9562721642)

2-कोट्टाकल (91,9656000601)

3-कालीकट (91,9847520600)

4-वायनाड (919847762080)

Related Articles