पीटर मुखर्जी की न्यायिक हिरासत 28 दिसम्बर तक बढ़ी

0

Peter-Mukerjee-fullमुंबई एक अदालत ने सोमवार को शीना बोरा हत्याकांड के चार मुख्य आरोपियों में से एक पीटर मुखर्जी की न्यायिक हिरासत अवधि 28 दिसम्बर तक के लिए बढ़ा दी। अदालत के आदेश के बाद पीटर के वकील कुशल मोर ने दंडाधिकारी आर.वी.अदोन के सामने अर्जी पेश कर मुखर्जी को जेल में घर का बना भोजन उपलब्ध कराने की इजाजत मांगी।

मोर ने कहा कि मुखर्जी दिल के मरीज हैं और उनका कोलेस्ट्राल संबंधी इलाज चल रहा है। मुखर्जी के लिए घर के बने खाने की गुहार लगाते हुए उन्होंने कहा, “सीबीआई की हिरासत में रहने के दौरान यह सुनिश्चित किया गया था कि उन्हें (मुखर्जी को) स्वास्थ्य की दृष्टि से अच्छा खाना मिले। अब वह जेल में हैं और हम चाहते हैं कि उनकी चिकित्सकीय जरूरतों को देखते हुए वहां भी उन्हें यही सुविधा मिले।”

भोजन संबंधी इस अर्जी का विरोध करते हुए सीबीआई की विशेष अधिवक्ता कविता पाटील ने कहा कि जेल अधिकारी हमेशा अपने कैदियों का ख्याल रखते हैं। संभावना है कि इस मामले में दंडाधिकारी अदोन मंगलवार को आदेश देंगे। शीना बोरा हत्याकांड के आरोपियों में पीटर मुखर्जी के अलावा उनकी पत्नी इंद्राणी मुखर्जी, इंद्राणी के पूर्व पति संजीव खन्ना और पूर्व चालक श्यामवर राय हैं।

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) हत्या के पीछे आर्थिक कारणों की संभावनाओं की भी जांच कर रहा है। पीटर ने पूछताछ में विदेशी बैंक खातों में करोड़ों के निवेश का खुलासा किया है। सीबीआई इंटपोल के संपर्क में है और उससे यह जानने की कोशिश कर रही है कि मुखर्जी दंपति ने हांगकांग और अन्य किन जगहों पर बैंक खाते खोले थे। इंद्राणी की बेटी शीना की हत्या अप्रैल 2012 में की गई थी। उसके शव को रायगढ़ के जंगलों में ले जाकर जलाया गया था। बाद में उसका अधजला शव बरामद हुआ था।

loading...
शेयर करें