पिनराई विजयन दूसरी बार Kerala के मुख्यमंत्री बने, उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने दी बधाई

दूसरी बाप पिनराई विजयन केरल के मुख्यमंत्री बन गए है, तिरुवनंतपुरम में केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने पिनराई विजयन को मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई

नई दिल्ली: केरल (Kerala) में पिनराई विजयन (Pinarayi Vijayan) ने दूसरी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। तिरुवनंतपुरम में आयोजित कार्यक्रम में केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई। उनके साथ 21 कैबिनेट के सदस्यों ने भी मंत्रीपद की शपथ ली। उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू (Vice President Venkaiah Naidu) ने फोन कर पिनराई विजयन को केरल में दूसरी बार मुख्यमंत्री बनने पर बधाई दी।

केरल में विधानसभा का चुनाव 6 अप्रैल को हुआ था। जिसके नतीजे 2 मई को आए। जिसमें LDF को जीत मिली थी। LDF लेफ्ट डेमोक्रेटिक फ्रण्ट ने NDA नेशनल डेमोक्रेटिक एलायंस को 99 सीटों से जीतकर हरा दिया था। जबकि BJP एक भी सीट जीतने में कामयाब नहीं हो सकी।

पिनाराई विजयन का जन्म 21 मार्च 1944 को कन्नूर जिले के में एक गरीब परिवार में हुआ है। इनके पिताजी का नाम पाम वाइन और माताजी का नाम ताड़ी टेपार है। इनकी पत्नी का नाम कमला है। और इनके दो बच्चे बेटी वीणा और बेटा विवेक है।

राजनीति में प्रवेश

पिनाराई विजयन (Pinarai Vijayan) छात्र संघ की गतिविधियों के माध्यम से राजनीति में प्रवेश किए और 1964 में कम्युनिस्ट पार्टी गए शामिल हो गए। उन्होंने केरल संघ KSF (छात्र) के सचिव और भी केरल राज्य फेडरेशन KSYF (यूथ) के अध्यक्ष के रूप में कार्य किया है। वह केरल विधानसभा 1970 में चुने गए है। वह फिर से 1977, 1991 और 1996 में चुने गए थे। ई के था नयनार के मंत्रालय में 1996 से 1998 तक विधुत और सहकारी व्यग के मंत्री के रूप में कार्य किया। 1998 में वह भाकपा बन गया (एम) के राज्य सचिव थे। जिसके बाद पिनाराई विजयन 2002 सीपीआई में एम (वह) के पोलित ब्यूरो के लिए चुने गए। वे केरल राज्य के सह अध्यक्ष ऑपरेटिव बैंक के रूप में कार्य भी किए है।

यह भी पढ़ेबिहार में Black Fungus के मरीजों में उछाल, AIIMS पटना में बना वार्ड, जानें क्या है यह फंगस

Related Articles