CII भागीदारी सम्मेलन में पीयूष गोयल ने कहा, ‘भारत में FDI लगातार बढ़ रहा’

नई दिल्ली: केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने भारतीय उद्योग परिसंघ के CII भागीदारी 2020 सम्मेलन को ऑनलाइन संबोधित करते हुए कहा कि देश में विदेशी निवेशकों का स्वागत है। उनके लिए अनुकूल नीतियां बनायी गई है और इनमें लगातार परिवर्तन होता रहेगा। उन्होंने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था लगातार सुधार की राह पर है और बाजारों को वैश्विक निवेशकों के लिए खोला जा रहा है।

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि भारत में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (Foreign Direct Investment) लगातार बढ़ रहा है। देश की एफडीआई नीति दुनिया में सबसे ज्यादा सुविधाजनक है। अप्रैल से सितंबर 2020 की अवधि में कुल एफडीआई 40 अरब डालर रहा है जो पिछले वर्ष की तुलना में 13 प्रतिशत अधिक है। उन्होंने कहा कि दुनिया में कंपनी कर की दर सबसे कम 22 प्रतिशत भारत में है। देश में विनिर्माण संयंत्र लगाने वाली कंपनियों के लिए यह दर तकरीबन 13 प्रतिशत होगी।

सम्मेलन में उन्होंने कहा कि सरकार ने उत्पादन आधारित प्रोत्साहन नीति शुरू की है। सभी मंत्रालयों में निवेश प्रोत्साहन प्रकोष्ठ है और केंद्र तथा राज्य सरकारें मिलकर निवेश का माहौल बनाने में जुटी हैं। पीयूष गोयल ने कहा कि देश में कारोबार की नई संभावनाएं बन रही हैं।

क्या है FDI?

किसी एक देश की कंपनी का दूसरे देश में किया गया निवेश प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (Foreign direct investment) यानी FDI कहलाता है। ऐसे निवेश से निवेशकों को दूसरे देश की उस कंपनी के प्रबंधन में कुछ हिस्सा हासिल हो जाता है जिसमें उसका पैसा लगता है। आमतौर पर माना यह जाता है कि किसी निवेश को एफडीआई का दर्जा दिलाने के लिए कम-से-कम कंपनी में विदेशी निवेशक को 10 फीसदी शेयर खरीदना पड़ता है। इसके साथ उसे निवेश वाली कंपनी में मताधिकार भी हासिल करना पड़ता है।

यह भी पढ़ें: विधानसभा चुनाव 2022: यूपी की राजनीति से जुड़ी सबसे बड़ी खबर, AAP ने किया बड़ा ऐलान

Related Articles