रेलवे निजीकरण को लेकर पीयूष गोयल ने कहा, ‘नहीं होगा निजीकरण’

अलवर: केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने रेल ट्रैक का विद्युतीकरण का उद्घाटन करने के बाद पत्रकारों से बातचीत की। पीयूष गोयल ने रेलवे के निजीकरण को लेकर बयान दिया है। गोयल ने कहा कि भारतीय रेल जनता की है और जनता की ही रहेगी।

विद्युतीकरण का किया उद्घाटन 

पीयूष गोयल ने अलवर जिले के डिगावडा में बांदीकुई तक 34 किलोमीटर के रेल ट्रैक का विद्युतीकरण का उद्घाटन किया। उद्घाटन के बाद गोयल पत्रकारों से रूबरू हुए। रेलवे को लेकर निजीकरण की चल रही खबरों को लेकर उन्होंने कहा कि भारतीय रेल का निजीकरण नहीं किया जाएगा। इतने सालों से जो रेल का विकास होना चाहिए वह अभी तक नहीं हुआ है। इसलिए भारतीय रेल पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप के तहत भागीदारी की जा रही है।

‘विकास अभी तक नहीं हुआ’

उन्होंने कहा कि जिस स्थिति में रेल का विकास होना चाहिए था वह विकास अभी तक नहीं हुआ है। अगर भारतीय रेलवे इसको 50 लाख करोड रुपए खर्च करें तब जाकर रेल का विकास हो इसलिए प्राइवेट भागीदारी का विकल्प चुना गया है। अगर कोई निजी ट्रेन चलाता है तो रेलवे का विकास ही होगा और जनता को सुविधाएं मिलेंगी।

कोरोना काल में ट्रेनों की संख्या को लेकर उन्होंने कहा कि ट्रेनों की संख्या डिमांड के आधार पर तय की जा रही है। कोरोना महामारी को लेकर रेलवे जल्दी में नहीं है। और इस ट्रैक पर किस तरीके की ट्रेन चाहिए ट्रेन चलाई जा रही है और इससे अब ट्रेनों की स्थिति भी सुधरेगी और विद्युतीकरण लाइन डालने से ट्रेनों की गति तेज भी होगी।

DMRC प्रोजेक्ट को लेकर बोले गोयल 

डीएमआईसी प्रोजेक्ट को लेकर गोयल ने कहा कि यह प्रोजेक्ट काफी तेज गति से चल रहा है और डेडीकेटेड फ्रंट कॉरिडोर प्रोजेक्ट की खुद हर सोमवार को मॉनिटरिंग करते हैं। उन्होंने कहा कि यह कॉरिडोर जून 2022 में से पहले तैयार हो जाएगा। वर्ष 2022 में 15 अगस्त को जब भारत आजादी की 75 की वर्षगांठ मनाएगा उससे पहले यह कॉरिडोर शुरू हो जाएगा।

यह भी पढ़ें: Mann Ki Baat: PM मोदी ने कहा, ‘पूर्व छात्रों और संस्थानों में जुड़ाव के लिए प्लेटफॉर्म जरूरी’

Related Articles

Back to top button