कर्नाटक का नाटक जारी, प्रोटेम स्पीकर मामले पर SC में सुनवाई आज, बहुमत पर सस्पेंस बरकरार

0

नई दिल्ली। कर्नाटक में सियासत की जंग जारी है। सबसे बड़ी पार्टी बनकर बीजेपी के बीएस येदियुरप्पा ने गुरुवार को मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली। वहीँ आज सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर फ्लोर टेस्ट होना हैमुख्यमंत्री के पद पर बने रहने के लिए येदियुरप्पा को सदन में अपना बहुमत साबित करना होगा।

बीएस येदियुरप्पा

फ्लोर टेस्ट के लिए जेडीएस और कांग्रेस के विधायक हैदराबाद से वापस बेंगलुरु पहुंच चुके हैं। आज विधायकों को शपथ दिलाया जायेगा। वहीँ शुक्रवार को राज्यपाल वजुभाई वाला ने बीजेपी विधायक के जी बोपैया को प्रोटेम स्पीकर नियुक्त किया है। कांग्रेस और जेडीएस राज्यपाल का यह फरमाना भी पसंद नहीं आया। उन्होंने उसका विरोध किया।

अब राज्यपाल के इस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दाखिल की है जिसपर आज सुबह 10.30 बजे सुनवाई होगी। कांग्रेस ने कहा कि जो बीजेपी ने किया है वह नियमों के खिलाफ है।

वहीं शाम को होने वाले अग्निपरीक्षा के लिए बैठकों का दौर शुरू हो गया है। गुलाम नबी आजाद और मल्लिकार्जुन खड़गे होटल हिल्टन पहुंचे हैं। यहां कांग्रेस और जेडीएस के विधायक मौजूद हैं। हैदराबाद से विधायकों को लाकर यहीं रखा गया है।

वहीं शंगरी-ला होटल में बीजेपी की बैठक चल रही है। इस बैठक में मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के साथ चुनाव प्रभारी प्रकाश जावड़ेकर सहित बीजेपी एक कई दिग्गज नेता शामिल हैं। होटल के बाहर येदियुरप्पा ने कहा मैं 100 प्रतिशत बहुमत साबित करने जा रहा हूं।

आपको बता दें कि कर्नाटक विधानसभा चुनाव की 222 सीटों पर आए नतीजों में बीजेपी को 104 सीटें मिली हैं, वहीँ कांग्रेस को 78 और जेडीएस को 38, बसपा को 1 और अन्य को 2 सीटें मिली हैं। ऐसे में बीजेपी ही कर्नाटक की सबसे बड़ी पार्टी है लेकिन बहुमत कांग्रेस और जेडीएस के पास है। सबसे बड़ी पार्टी होने की वजह से बीजेपी ने अपना दावा पेश किया है। वहीं कांग्रेस ने मणिपुर और गोवा का हवाला देते हुए कहा कि बहुमत उनके पास है इसलिए सरकार बनाने का मौका उन्हें मिलना चाहिए।

loading...
शेयर करें