शांति निकेतन में पीएम मोदी को मांगनी पड़ी माफी, जानिए क्यों

शांति निकेतन। पीएम नरेंद्र मोदी शुक्रवार को पश्चिम बंगाल के शांति निकेतन में विश्व भारती विश्वविद्यालय के 49वें दीक्षांत समारोह में शामिल हुए। उन्होंने यहां विश्व भारती परिसर में पेयजल की कमी के चलते छात्रों से माफी मांगी। वह विश्व भारती के 49वें दीक्षांत समारोह में कुलाधिपती के रूप में शामिल हुए।

पीएम मोदी ने जोरदार स्वागत के बीच कहा कि मैं विश्व भारती के कुलाधिपति के रूप में आपसे क्षमा मांगता हूं। जब मैं यहां आ रहा था, कुछ छात्रों की भावभंगिमा ने मुझे पेयजल की कमी के बारे में बता दिया।

उन्होंने कहा कि मैं इस असुविधा के लिए आपसे क्षमा मांगता हूं। इस विश्वविद्यालय को नोबल पुरस्कार विजेता रबींद्रनाथ टैगोर ने पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले के बोलपुर में बनवाया था।

मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक, अपर्याप्त पेयजल आपूर्ति की वजह से कुछ छात्र बीमार पड़ गए। इस दौरान मोदी की बांग्लादेशी समकक्ष शेख हसीना, पश्चिम बंगाल के राज्यपाल के.एन. त्रिपाठी और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी मौजूद रहे।

Related Articles