पीएम मोदी पहुंचे जम्मू-कश्मीर, करने वाले हैं ऐसा काम, पूरी दुनिया होगी हैरान

श्रीनगर। पीएम नरेंद्र मोदी आज से अपने एक दिवसीय जम्मू-कश्मीर दौरे पर हैं। शनिवार को लद्दाख क्षेत्र के लेह पहुंच गए हैं। यहां राज्यपाल एन.एन वोहरा और मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती के साथ ही वरिष्ठ असैन्य और सैन्य अधिकारियों ने लेह हवाईअड्डे पर उनका स्वागत किया। पीएम मोदी आज यहां एशिया की सबसे बड़ी सुरंग का शिलान्यास करने वाले हैं। सेना के लिए व रणनीतिक दृष्टि से यह सुरंग बेहद अहम मानी जा रही है। इस सुरंग को जोजिला सुरंग का नाम दिया गया है।

श्रीनगर रिंग रोड और जम्मू रिंग रोड की आधारशिला भी रखेंगे
इस दौरे के दौरान मोदी श्रीनगर और जम्मू में दो अगल-अलग कार्यक्रमों में श्रीनगर रिंग रोड और जम्मू रिंग रोड की आधारशिला रखेंगे। सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी भी प्रधानमंत्री के साथ होंगे। 14 किलोमीटर लंबी जोजिला सुरंग भारत की सबसे लंबी सड़क सुरंग होगी, जबकि यह दोहरी दिशाओं वाली एशिया की सबसे लंबी सुरंग होगी।

आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति ने इसी साल दो लेन वाली दोनों दिशाओं वाली इस सुरंग के निर्माण, पचिालन व रखरखाव को मंजूरी दी थी। श्रीनगर-लेह राष्ट्रीय राजमार्ग-1ए पर बालटाल और मीनामार्ग के बीच बनने वाली इस सुरंग पर 6,800 करोड़ रुपये खर्च होंगे।

इस सुरंग के बनने से श्रीनगर, कारगिल और लेह के बीच सभी मौसम में संपर्क बना रहेगा और इससे जोजिला दर्रे को पार करने में जो 3.5 घंटे लगने वाला समय महज 15 मिनट हो जाएगा।

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने कहा कि सुरंग के निर्माण से इस क्षेत्र में चौतरफा आर्थिक सामाजिक एवं सांस्कृतिक एकीकरण होने की उम्मीद है। निर्माण कार्य में प्रत्यक्ष रूप से रोजगार पैदा होने के अतिरिक्त इससे आर्थिक गतिविधि बढ़ने के कारण अप्रत्यक्ष रूप से भी काफी रोजगार पैदा होंगे।

मंत्रालय ने कहा कि इस परियोजना का रणनीतिक और सामाजिक व आर्थिक महत्व है। जम्मू एवं कश्मीर के आर्थिक रूप से पिछड़े जिलों के विकास का यह एक जरिया होगा।

एक स्मार्ट सुरंग के रूप में नियोजित जोजिला में पूरी तरह हवा व प्रकाश की व्यवस्था, निरंतर बिजली की आपूर्ति, आपातकालीन प्रकाश व्यवस्था, सीसीटीवी के जरिए निगरानी, विभिन्न प्रकार के संदेश सूचक, यातायात के उपकरण व टनेल रेडियो सिस्टम की व्यवस्था होगी।

सुरंग में प्रत्येक 125 मीटर पर टेलीफोन और अग्निशमन की व्यवस्था के अलावा प्रत्येक 250 मीटर पर पैदल पार पथ मोटर पार पथ के साथ-साथ 750 मीटर की दूरी पर स्टैंड होंगे।

Related Articles