ब्रिक्स में पीएम मोदी ने चला ऐसा दांव, पाक बोला- माफ कर दो अब हम सुधरना चाहते हैं

0

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के विदेश मंत्री ख्वाजा आसिफ ने अपने मुल्क के खिलाफ एक ऐसा बयान दिया है जिसे सुनकर आपको पहली बार में यकीन करना मुश्किल हो जाएगा। पाकिस्तान आतंकवाद को लेकर हमेशा कटघरे में खड़ा किया जाता है लेकिन आज तक कभी पाक ने अपनी गलती नहीं मानी। मगर पहली बार पाकिस्तान के विदेश मंत्री ख्वाजा आसिफ ने इस बात को सबके सामने कुबूल किया है।

 

’हमें अपने दोस्तों को बताना होगा कि अब हम सुधर गए हैं’

पाकिस्तानी न्यूज चैनल जियो को दिए एक इंटरव्यू में जब ख्वाजा आसिफ से ब्रिक्स घोषणा पत्र में पाकिस्तान को कटघरे में खड़ा किए जाने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘’पाकिस्तान ने अतीत में कुछ गलतियां की हैं, लेकिन अब पाकिस्तानी सेना और राजनीतिक नेतृत्व दोनों को एहसास हो गया है कि पाकिस्तान को अपने गलतियों भरे अतीत से पीछा छुड़ाकर साफ-सुथरे रास्ते पर चलना होगा।’’

ख्वाजा ने आगे कहा, ‘’हमें अपने दोस्तों को बताना होगा कि अब हम सुधर गए हैं। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर शर्मिंदगी से बचने के लिए हमें अपने घर की हालत सुधारनी होगी। उन्होंने कहा, ”अगर लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद जैसे आतंकवादी संगठनों पर लगाम नहीं लगाई गई तो देश शर्मिंदगी का सामना करता रहेगा। पाकिस्तान को अपनी चीजें ठीक करनी चाहिए क्योंकि पूरी दुनिया हमारी तरफ ऊंगली उठा रही है।’’

ख्वाजा आसिफ ने आगे कहा, ”पाकिस्तान की सेना ने अपने हिस्से का काम किया, लेकिन क्या हमने अपने हिस्से का काम किया?” आसिफ ने कहा कि दुनिया को इस बात पर विश्वास दिलाने की जरूरत है कि पाकिस्तान का आतंकवाद से कुछ लेना-देना नहीं है।

डोनाल्ड ट्रंप ने आतंकवादी समूहों को ‘पनाह’ देने पाक को लगाई फटकार

पाकिस्तान के विदेश मंत्री ख्वाजा आसिफ का ये बयान ब्रिक्स घोषणापत्र के दो दिन बाद आया है जिसमें पहली बार पाकिस्तान से संचालित हो रहे आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद जैसे अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधित संगठनों का नाम लिया गया था। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी हक्कानी नेटवर्क जैसे आतंकवादी समूहों को ‘पनाह’ देने के लिए पाकिस्तान को सार्वजनिक तौर पर कड़ी फटकार लगाई थी।

लगता है पाकिस्तान को डर है कि कहीं आतंकवाद को लेकर उसे बाकी देशों से अलग-थलग न कर दिया जाए। इसलिए अब वो बाकी देशों के सामने अपनी इमेज़ सुधारने की कोशिश में लगा है। देखते हैं अपनी इस बात पर कब तक और कितना कायम रहता है पाक।

loading...
शेयर करें