सीधी में जनता को बघेली में संबोधित कर सकते हैं पीएम मोदी, आदिवासी आज भी खड़ी बोली से अछूते

0

सीधी विंध्य की पहचान बघेली बोली से होती है। संसदीय क्षेत्र में रहने वाला आदिवासी सहित अन्य गरीब तबका अपनी बघेली बोली को ही चिर-परिचित अंदाज से समझ पाता है। संसदीय क्षेत्र सीधी के आदिवासी बहुल क्षेत्र कुसमी, देवसर और चितरंगी, सिंगरौली सहित ग्रामीण अंचल में रहने वाले आदिवासी आज भी खड़ी बोली से अछूते हैं, कह सकते हैं कि उन्हें हाई प्रोफाइल नेताओं के भाषण खड़ी बोली में समझ नहीं आते हैं।

संसदीय क्षेत्र सीधी एक हाई प्रोफाइल सीट मानी जा रही है। यहां भाजपा से रीति पाठक और कांग्रेस से पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह राहुल चुनाव मैदान में हैं। भाजपा प्रत्याशी रीति पाठक दोबारा मैदान में हैं तो वहीं कांग्रेस के अजय सिंह राहुल चुरहट विधानसभा सीट से लगातार छह बार विधायक रह चुके हैं। दोनों ही प्रत्याशी मतदाताओं के बीच अपनी बात रखने में बघेली का इस्तेमाल कर रहे हैं। ताकि वे पार्टी के एजेंडे के साथ खुद के बारे में समझा सकें। खास बात यह है कि अजय सिंह राहुल अर्थशास्त्र से एमए हैं तो वहीं रीति पाठक एएलबी हैं चाहे तो दोनों नेता संसदीय क्षेत्र में फर्राटेदार खड़ी बोली या फिर अंग्रेजी में भाषण दे सकते हैं।

बघेली में है अपनापन

संसदीय क्षेत्र सीधी आदिवासी बहुल क्षेत्र है। यहां रहने वाली महिलाएं और बुजुर्ग आज भी खड़ी बोली को स्वीकार नहीं करते। बघेली सुनते ही मतदाता को यह महसूस होता है कि उनके पास आया नेता उनका है। दरअसल यहां रहने वाला तबका बघेली बोलने वालों को अपनापन देते हैं, यहां तक कि इस अपनेपन को जताने में कोई कसर नहीं छोड़ते हैं।

मोदी के भाषण पर आम जन की नजर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 26 अप्रैल को सीधी लोकसभा क्षेत्र में जनसभा संबोधित करेंगे। नेताओं के साथ आम जनता की नजर मोदी के भाषण पर है। माना जा रहा है कि मोदी सीधी संसदीय क्षेत्र की आम जनता को बघेली में संबोधित कर सकते हैं। जिससे जनता का अपनापन पा सकेंगे। भाजपा जिला अध्यक्ष डॉ. राजेश मिश्रा ने कहा कि हम प्रधानमंत्री से निवेदन करेंगे कि वे सभा को बघेली में संबोधित करें। बघेली बहुत ही प्यारी बोली है जो आमजन के मन छू जाती है।

दिग्गज नेता देते रहे बघेली में भाषण

संसदीय क्षेत्र सीधी आठ विधानसभा क्षेत्र को मिलाकर बनाया गया है। जिसमें सीधी, सिहावल, धौहनी, चुरहट और सिंगरौली जिले की सिंगरौली, देवसर और चितरंगी शामिल है। शहडोल जिले की ब्यौहारी विधानसभा शामिल है। बता दें कि पूर्व मुख्यमंत्री स्व. अर्जुन सिंह, केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया, दिग्विजय सिंह जब भी सीधी क्षेत्र में सभा लेते थे तब वे बघेली बोलते थे। पूर्व विधानसभा अध्यक्ष स्व. श्रीनिवास तिवारी, पूर्व सांसद स्व. सुंदरलाल तिवारी सहित कई नेता आम सभा को बघेली में ही संबोधित करते रहे हैं।

पर्चे भी बघेली मे

कांग्रेस प्रत्याशी अजयसिंह राहुल का पंपलेट यानी पर्चा बघेली में लिखा गया है। जिसमें स्व. अर्जुन सिंह के जिक्र से लेकर तमाम राजनीतिक बातें लिखी गई हैं। सिंगरौली जिले के एनटीपीसी, एनसीएल सहित किए गए विकास कार्यों का उल्लेख भी बघेली में किया गया है। यह पंपलेट आम जतना के बीच पहुंचाया जा रहा है ताकि सरल भाषा में पढ़कर स्व. अर्जुन सिंह के बारे में जान सकें।

loading...
शेयर करें