जी२० शिखर सम्मलेन में पीएम मोदी ने दूर की देशो की दूरियां बढ़ाया व्यापार

ट्रंप और इवांका से मिले पीएम सुलझी उलझी हुई गुथियाँ

जापान के ओसाका में चल रहे जी20 शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दुनिया के नेताओं से मुलाकात की।उनका यह दौरा तीन दिनों का है जिसमें अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उनकी बेटी और व्हाइट हाउस की सलाहकार इवांका ट्रंप भी आये|

इसके साथ ही ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन भी शामिल हुए| मॉरिसन ने प्रधानमंत्री के साथ सेल्फी भी क्लिक की और इसे शेयर करते हुए लिखा- ‘कितना अच्छा है मोदी।’

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने ओसाका में जापानी विदेश मंत्री तारो कोनो के साथ द्विपक्षीय रणनीतिक वार्ता भी की है। इस दौरान दोनों देशों के बीच सामरिक संबंधों को बढ़ाने पर भी चर्चा हुई।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ओसाका में आयोजित जी-20 समिट में तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोआन के साथ द्विपक्षीय बैठक की। जिसमें आपसी व्यापार, वीजा और टूरिज्म को लेकर बातचीत हुई।

प्रधानमंत्री सम्मेलन में अपने शेरपा सुरेश प्रभु, विदेश मंत्री एस जयशंकर और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के साथ जी20 सम्मेलन में पहुंच गए हैं। जी-20 सम्मेलन को आज पीएम मोदी संबोधित करेंगे। इसके अलावा आज ही उनकी भारत वापसी भी होगी।प्रधानमंत्री ने इंडोनेशिया और ब्राजील के राष्ट्रपतियों के साथ अलग-अलग बैठक की| जिसमे व्यापार तथा निवेश में सहयोग बढ़ाने की बात की|

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट किया, ‘व्यापक रणनीतिक साझेदारी को आगे बढ़ाते हुए। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जी-20 शिखर सम्मेलन से इतर इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विडोडो के साथ एक फलदायी बैठक की। व्यापार, निवेश, रक्षा, समुद्र, अंतरिक्ष और हिंद-प्रशांत पर सहयोग के विस्तार पर चर्चा की।’ इसके तुरंत बाद ही मोदी ने ब्राजील के राष्ट्रपति जेयर बोल्सोनारो से मुलाकात की।

इस पर भी रविशकुमार ने ट्वीट किया, ‘करीबी एवं बहुमुखी कूटनीतिक साझेदारी को मजबूत करते हुए। प्रधानमंत्री मोदी और ब्राजील के राष्ट्रपति जेयर बोल्सोनारो ने द्विपक्षीय संबंधों, जलवायु परिवर्तन, व्यापार, निवेश, कृषि और जैव-ईंधन में विशेष सहयोग को लेकर व्यापक चर्चा की।’
मोदी ने शुक्रवार को अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प, रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग सहित कई नेताओं से मुलाकात की थी। जिससे व्यापार तथा निवेश में सहयोग बढ़ सके|

Related Articles