PM Modi ने किया सोमनाथ शुभारंभ और साथ ही साथ पार्वती माता मंदिर का भी शिलान्यास

Prime Minsiter Narendra Modi ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए गुजरात के सोमनाथ में कई परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया

नई दिल्ली:   Prime Minsiter Narendra Modi ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए गुजरात के सोमनाथ में कई परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया।  इसके अलावा उन्होंने यहां पार्वती माता मंदिर का भी शिलान्यास किया। कार्यक्रम के दौरान केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, बीजेपी के वरिष्ठ नेता, लाल कृष्ण आडवाणी और मुख्यमंत्री विजय रुपाणी में मौजूद रहे।

जानें PM Modi कार्यक्रम को संबोधित करते हुए क्या बोले

उन्होंने कहा- “मेरा सौभाग्य है कि सोमनाथ मंदिर ट्रेस्ट के अध्यक्ष के रूप में मुझे इस पुण्य स्थान की सेवा का अवसर मिलता रहा है और आज फिर हम सब इस पवित्र तीर्थ के कायाकल्प के साक्षी बन रहे हैं, आज मुझे समुद्र दर्शन पथ, सोमनाथ प्रदर्शन गैलरी और जीर्णोद्धार के बाद नए स्वरूप में जूना सोमनाथ मंदिर के लोकार्पण का सौभाग्य मिला है, साथ ही आज पार्वती माता मंदिर का शिलान्यास भी हुआ है।’’

जानिए PM Modi लोकमाता अहिल्याबाई के बारे मे क्या कहा

‘’आज मैं लोकमाता अहिल्याबाई होल्कर को भी प्रणाम करता हूं, जिन्होंने विश्वनाथ से लेकर सोमनाथ तक, कितने ही मंदिरों का जीर्णोद्धार कराया, प्राचीनता और आधुनिकता का जो संगम उनके जीवन में था, आज देश उसे अपना आदर्श मानकर आगे बढ़ रहा है।’’

PM Modi ने किन-किन परियोजनाओं का उद्घाटन किया?

बता दें कि पीएम मोदी ने आज जिन परियोजनाओं का उद्घाटन किया है, उनमें सोमनाथ सैरगाह, सोमनाथ प्रदर्शनी केंद्र और पुराने (जूना) सोमनाथ का पुनर्निर्मित मंदिर परिसर शामिल हैं।

somnath temple gujarat
somnath temple gujarat

जानें कितने कितने लागत में विकसित हुआ सोमनाथ सैरगाह?

सोमनाथ सैरगाह को ‘प्रसाद (तीर्थयात्रा कायाकल्प और आध्यात्मिक, धरोहर संवर्धन अभियान) योजना’ के तहत 47 करोड़ रुपये से भी अधिक की कुल लागत से विकसित किया गया है. ‘पर्यटक सुविधा केंद्र’ के परिसर में विकसित सोमनाथ प्रदर्शनी केंद्र में पुराने सोमनाथ मंदिर के खंडित हिस्सों और पुराने सोमनाथ की नागर शैली की मंदिर वास्तुकला वाली मूर्तियों को दर्शाया जाता है। पुराने (जूना) सोमनाथ के पुनर्निर्मित मंदिर परिसर को श्री सोमनाथ ट्रस्ट द्वारा 3.5 करोड़ रुपये के कुल परिव्यय के साथ पूरा किया गया है।  इस मंदिर को ‘अहिल्याबाई मंदिर’ के रूप में भी जाना जाता है, क्योंकि इसे इंदौर की रानी अहिल्याबाई द्वारा तब बनाया गया था जब पूरा मंदिर खंडर में तब्दील हो गया था।

जानें तीर्थयात्रियों के सुरक्षा लिए क्या किया गया हैं।

तीर्थयात्रियों की सुरक्षा के साथ-साथ इसकी क्षमता बढ़ाने के लिए संपूर्ण पुराने मंदिर परिसर का समग्र रूप से पुनर्विकास किया गया है।  श्री पार्वती मंदिर का निर्माण 30 करोड़ रुपये के कुल परिव्यय से किया जाना प्रस्तावित है और इसमें सोमपुरा सलात शैली में मंदिर का निर्माण, गर्भ गृह और नृत्य मंडप का विकास करना शामिल होगा।

 

यह भी पढ़ें:राजीव गांधी की 77वीं जयंती पर राहुल गांधी ने दी श्रद्धांजलि

(Puridunia हिन्दीअंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)…

Related Articles