दीनदयाल उपाध्याय की पुण्यतिथि पर जानें उनके जीवन की रोचक बातें, PM मोदी ने दी श्रद्धांजलि

पंडित दीनदयाल उपाध्याय राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के चिन्तक और संगठनकर्ता थे, उनके पुण्यतिथि पर PM मोदी ने 'समर्पण दिवस' कार्यक्रम में श्रद्धांजलि अर्पित की

नई दिल्ली: पंडित दीनदयाल उपाध्याय (Pandit Deendayal Upadhyay) राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के चिन्तक और संगठनकर्ता थे। वे भारतीय जनसंघ के अध्यक्ष भी रहे हैं। राजनीति के अलावा साहित्य में भी उनकी गहरी अभिरुचि थी। उन्होंने हिंदी और अंग्रेजी भाषाओं में कई लेख लिखे, जो विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हुए। पीएम मोदी ने पंडित दीनदयाल उपाध्याय की पुण्यतिथि पर ‘समर्पण दिवस’ कार्यक्रम में उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की।

पुण्यतिथि पर PM मोदी का अभिवादन

पीएम मोदी ने पंडित दीनदयाल उपाध्याय की पुण्यतिथि पर बोला कि दीनदयाल उपाध्याय जी हमें हमेशा प्रेरणा देते रहे हैं। आज भी उनके विचार उतने ही प्रासंगिक हैं और आगे भी रहेंगे। जहां भी मानवता के कल्याण की बात होगी उनका एकात्म मानव दर्शन प्रासंगिक रहेगा।

सत्ता की ताकत से आपको सीमित सम्मान ही मिल सकता है लेकिन विद्वान का सम्मान हर जगह होता है। दीनदयाल जी इस विचार के जीते जागते उदाहरण हैं। कोरोना काल में देश ने अंत्योदय की भावना को सामने रखा। आत्मनिर्भरता से एकात्म मानव के दर्शन को भी सिद्ध किया।

पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जीवनी

पंडित दीनदयाल उपाध्याय का जन्म 25 सितम्बर 1916 को मथुरा में हुआ था। और उनकी मृत्यु 11 फरवरी 1968 को हुई थी। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के चिन्तक और संगठनकर्ता थे। वे भारतीय जनसंघ के अध्यक्ष भी रहे। उन्होंने भारत की सनातन विचारधारा को युगानुकूल रूप में प्रस्तुत करते हुए देश को एकात्म मानववाद नामक विचारधारा दी। वे एक समावेशित विचारधारा के समर्थक थे जो एक मजबूत और सशक्त भारत चाहते थे।

यह भी पढ़ेयात्री वाहनों की बिक्री में 11 फ़ीसद की हुई बढ़ोत्तरी, तिपहिया में रिकॉर्ड गिराव

CM योगी ने दी श्रद्धांजलि 

लखनऊ में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भारतीय जनसंघ के सह-संस्थापक पंडित दीन दयाल उपाध्याय की पुण्यतिथि पर उन्हें श्रद्धांजलि दी। उन्होनें कहा, “उनके विचारों से पार्टी और समाज को हमेशा प्रेरणा मिली। उनसे प्रेरणा लेकर सरकार हर तबके तक विकास की योजनाएं पहुंचा पा रही है।

यह भी पढ़ेइस कनेडियन अभिनेत्री ने कैसे किया Morocco से Mumbai का सफर, फेस किया कई रिजेक्शन

Related Articles

Back to top button