पाकिस्तान से बातचीत कर इतिहास बदलना चाहते हैं पीएम

0

35313267 (1)नई दिल्ली/कोच्चि। पाकिस्तान के साथ बातचीत को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पहली बार अपनी बात रखी। पीएम ने कहा कि इस नई शुरुआत से दोनों देशों के बीच इतिहास बदलेगा। हालांकि, आतंकवाद को लेकर अपने वायदे पर उन्होंने पड़ोसी मुल्क को खरा उतरने की भी हिदायत दी।

पीएम मोदी यहां नौसेना की शक्ति का प्रतीक माने जाने वाले विमानवाहक पोत आईएनएस विक्रमादित्य पर कोच्चि में सेना के तीनों अंगों के संयुक्त कमान सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। प्रधानमंत्री ने स्पष्ट किया कि पड़ोसी देश को आतंकवाद पर उसकी प्रतिबद्धता के आधार पर परखा जाएगा।

उन्होंने कहा कि इस रास्ते में कई चुनौतियां और बाधाएं हैं, लेकिन देश की सुरक्षा से किसी तरह का समझौता नहीं किया जाएगा। हम इतिहास को बदलने की कोशिश के तहत तथा आतंकवाद के खात्मे, शांतिपूर्ण संबंधों, सहयोग बढ़ाने और क्षेत्र में स्थिरता व समृद्धि के लिए पाकिस्तान के साथ वार्ता कर रहे हैं।

उन्होंने कहा, इस राह में कई चुनौतियां तथा बाधाएं हैं, लेकिन यह कोशिश इसलिए जरूरी है क्योंकि हमारे बच्चों का भविष्य दाव पर लगा है। इसलिए हम उनकी मंशा को परखेंगे जिससे कि आगे का मार्ग प्रशस्त हो सके। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार स्तर की वातचीत इसलिए शुरू की गई है जिससे कि सुरक्षा विशेषज्ञ आमने सामने बैठ कर बात कर सकें।

loading...
शेयर करें