सिंदूर में मिलाया जा रहा जहरीला पदार्थ, लगाने से जा सकती है जान

0

भारत में लंबे समय से सिंदूर का प्रयोग होता आया है। खासकर इसका सेवन भारतीय सुहागिन अपने सुहाग की निशानी के तौर माथे पर लगाती है। औरतों के साथ ही इसका प्रयोग बच्चों के  तिलक लगाने में किया जाता है जहां यह एक तरफ महिलाओं के माथे की निशानी होती है। वहीं दूसरी तरफ इसका प्रयोग भी कई शुभ कार्यों के लिए किया जाता रहा है।

लेकिन एक शोध के माध्‍यम से एक चौकाने वाला सच सामने आया है। शोधकर्ताओं ने पाया है कि भारत और अमेरिका में बिक रहे सिंदूर में लेड का असुरक्षित स्तर हो सकता है। कुछ निर्माता इसे विशिष्ट लाल रंग देने के लिए लीड टेट्रोक्साइड का उपयोग करते हैं। जो जानलेवा हो सकता है।

अध्ययन में 118 सिंदूर के नमूने लिए गए, जिनमें से न्यू जर्सी में साउथ एशियन स्टोर्स से 95 थे। अन्य 23 नमूने भारत के दो राज्‍य मुंबई और दिल्ली के थे। कुल मिलाकर, 80 प्रतिशत नमूनों में कुछ लेड पाया गया और एक तिहाई में यूएस ड्रग एंड फूड एडमिनिस्ट्रेशन द्वारा तय सीमा से ज्यादा स्तर निकला।

also read:  सालों में दीमक खा गये पूरा गांव, हाथ से बाहर हुई समस्या

शोधकर्ताओं का मानना है की उनके मुताबिक, ‘लेड का कोई सुरक्षित स्तर नहीं होता है।  इस लिहाज से यह हमारे शरीर में नहीं पाया जाना चाहिए। खासकर 6 साल के कम उम्र के बच्चों में । खून में लेड का कम स्तर भी आईक्यू को प्रभावित कर सकता है। मिले नमुने के मुताबिक सिंदूर में मिलाये जाने वाला यह खतरनाक पदार्थ बहुत ही खतरनाक है पूरी तरह से पूरे शरीर को प्रभावित करता है। इससे शारीर को कई नुकशान भी उठाने पड़ सकते हैं।

loading...
शेयर करें