अलगाववादियों पर फिर चला पुलिस का चाबुक, मीरवाइज और यासीन मलिक गिरफ्तार

0

श्रीनगर| जम्मू-कश्मीर में अलगाववादी नेताओं पर एक बार फिर पुलिस प्रशासन का चाबुक चला है। दरअसल, बुधवार को पुलिस ने अलगाववादियों के एक संयुक्त मार्च को विफल करते हुए अलगाववादी नेता मीरवाइज उमर फारूक और मुहम्मद यासीन मलिक को हिरासत में ले लिया।

दरअसल, अलगाववादी नेता मीरवाइज उमर फारूक और मुहम्मद यासीन मलिक ने संयुक्त रूप से एक रच निकालने का फैसला लिया था। यह मार्च जम्मू एवं कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (जेकेएलएफ) के अबी गजर स्थित कार्यालय के पास से शहर के मध्य स्थित लाल चौक जाना था। लेकिन जैसे ही यह मार्च शुरू हुआ पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया।

आइल पहले दोनों नेताओं ने जेकेएलएफ कार्यालय में एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन को संबोधित किया। मीरवाइज फारूक ने कहा कि दक्षिण कश्मीर में आतंकवादियों के खिलाफ कार्रवाई के नाम पर सुरक्षा बलों द्वारा जारी लोगों का उत्पीड़न निन्दनीय है। उन्होंने कश्मीर घाटी के बाहर अलग-अलग जेलों में बंद कश्मीरियों की दुर्दशा पर भी चिंता व्यक्त की।

मीरवाइज ने मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती के उस बयान के लिए आलोचना की जिसमें उन्होंने कहा था कि कुछ लोग पहले आंदोलन भड़काते हैं और बाद में प्रशासनिक मदद के लिए लाइन लगाते हैं। उन्होंने कहा कि यह बयान साबित करता है कि उनका जमीनी वास्तविकताओं से कोई संबंध नहीं है।

अलगाववादियों ने जेलों में बंद कश्मीरियों के साथ एकजुटता व्यक्त करने के लिए 27 नवंबर को पूरी घाटी में बंद का आह्वाहन किया है।

loading...
शेयर करें