दारोगा जी ने गिरफ्तारी तो की नहीं ,वारंट भी खो दिया

govt-jobs-in-up-police-56877846b13e8_exlstकानपुर। शहर के एक दारोगा जी को कप्तान ने पुलिस चौकी का जिम्मा सौंप रखा है। अब वह कितने जिम्मेदार हैं इसकी पोल शोहदों से पीड़ित नेशनल प्लेयर ने खोल दी है। पीड़ित का आरोप है कि रिपोर्ट दर्ज होने के बाद आरोपियों को गिरफ्तार नहीं किया। बल्कि कोर्ट से जारी वारंट भी खो दिया है। इस बारे में उसने दारोगा से जानकारी की तो उन्होंने जवाब दिया कि जब थाने से दारोगा की बाइक चोरी हो जाती है तो फिर वारंट क्या चीज है।

ये भी पढ़ें : यूपी पुलिस में सिपाहियों की भर्ती शुरू, जल्द करें आवेदन

जानकारी जो कि 12 जून को बर्रा-8 की रहने वाली नेशनल कबड्डी खिलाड़ी डाली सिंह बाजार से लौट रही थी तो इलाके में ही रहने वाले दबंग उजाला ठाकुर और उसके दोस्त गांधी पण्डित ने उसका हाथ पकड़ लिया था। जिस पर डाली ने शोर मचा दिया था। जिस पर दोनों भाग गए थे। घर वालों से शिकायत करने पर उजाला ठाकुर ने डाली के परिजनों की पिटाई कर उसके घर में पथराव कर दिया था।

शिकायत पर पुलिस ने कोई कार्यवाही नहीं की, लेकिन मामला मीडिया में पहुंचने पर आनन-फानन रिपोर्ट दर्ज कर उजाला को जेल भेज दिया था। इस पर एसएसपी ने कार्यवाही भी की थी। उन्होंने बर्रा थानाध्यक्ष व चौकी इंचार्ज को लाइन हाजिर भी कर दिया था। पीड़िता ने बताया कि उसने दारोगा से मोबाइल पर बात की तो वह बाइक और आदमी तक खोने के तर्क दे रहे हैं। जिसकी रिकार्डिंग भी फ़ोन पर है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button