मासूम बच्ची के शव को दफनाने से रोकने के लिए दौड़ पड़ी चार थानों की पुलिस

अदालत के आदेश का पालन कराते हुए मासूम के शव को दूसरे कब्रिस्तान में गांव वालों की सहमति से दफनाया।

इटावा: उत्तर प्रदेश में इटावा जिले के जसवंतनगर इलाके में एक विवादित कब्रिस्तान में मासूम बच्ची के शव को दफनाने से रोकने के लिए चार थानो की पुलिस दौड़ पड़ी।

शव दफनाने को लेकर विवाद

विवादित कब्रिस्तान पर हो रहे दफीने को रोकने के लिए इटावा जिले के वैदपुरा,सिविल लाइन,जसवंतनगर और सैफई थाना पुलिस को लगाया गया था। जिला और पुलिस प्रशासन ने संयुक्त रूप से सक्रिय होकर अदालत के आदेश का पालन कराते हुए मासूम के शव को दूसरे कब्रिस्तान में गांव वालों की सहमति से दफनाया। बच्ची के दफीने के लिए लोग पहुंचे तो दोनों पक्षों में विवाद के हालात पैदा हो गये । वैदपुरा थाना प्रभारी हामिद सिददीकी ने बच्ची के दफीना करने पहुंचे लोगों को समझा बुझा कर शांत किया और यथास्थिति बनाये रखने के लिए दोनों पक्षों में राजी कर लिया।

ऐसा कहा जा रहा है कि यह कब्रिस्तान मोहसिन के परिवारी जनों का है। जिस पर करीब 60 साल से परिवार के बीस सदस्यों का दाफीना हो चुका है। अब गांव के किसी दबंग शख्स ने कब्रिस्तान की जमीन को खरीद लिया है वैसे भी इससे पहले दो लोग इस जमीन को खरीद चुके हैं। लेकिन किसी ना किसी हादसे के वजह से वह लोग कब्जा करने की हिम्मत नहीं दिखाया करते थे। इस बार यह लोग इस जमीन पर कब्जे हिम्मत दिखा रहे थे तो गांव वालों की शिकायत पर एसडीएम ने फिलहाल मामले के निस्तारण होने तक कब्रिस्तान में दफने पर रोक लगा दी है।

ग्राम प्रधान हीरालाल ने बताया कि दबंगों ने इस परिवार को परेशान किया हुआ है। बीच में कुछ लोग कब्रिस्तान की जमीन अपने नाम करा चुके हैं लेकिन जैसे ही उनके परिवार में कोई अनहोनी होती है। वैसे ही कब्रिस्तान की जमीन को छोड़ देते हैं लेकिन इस दशा इस जमीन पर कब्जे की नीयत पर बना चुका है। उससे बचने के लिए मूल मालिक ने अदालत की शरण ले ली फिर एडीएम ने कब्रिस्तान में दाखिले पर रोक लगाई हुई है।

दोनों पक्षों को दी गई चेतावनी

पुलिस उपाधीक्षक रमेश चंद्र ने कहा कि चूंकि विवादित कब्रिस्तान पर एडीएम अदालत से रोक लगाई गई है। इसलिए यहां पर किसी को कोई दफीना करने की अनुमति नहीं जा सकती है। आज दफीने की सूचना मिलने पर पुलिस और प्रशासन सक्रिय हुआ। खुद उपजिलाधिकारी ज्योत्सना बंधु ने भी यहां आकर यथास्थिति को बनाये रखने के निर्देश दोनों पक्षों के साथ साथ संबधित थाना पुलिस को दिया हुआ है।

यह भी पढ़ें: बाराबंकी में पराली जलाने पर लेखपाल को मिली धमकी के सदमे से किसान की मौत

Related Articles

Back to top button