महबूबा मुफ्ती द्वारा लगाए गए आरोपों का पुलिस ने किया खंडन, कहा- ‘आतंकवादियों की पहचान अपडेट करने के लिए बुलाया’

श्रीनगर: महबूबा मुफ्ती द्वारा पीडीपी नेता को पुलिस स्टेशन में बैठाने पर लगाए गए आरोपों का जम्मू-कश्मीर पुलिस ने खंडन किया है। पुलिस ने खंडन करते हुए कहा है कि प्रदेश में किसी भी चुनाव के दौरान आतंकवादियों की पहचान को अपडेट करने के लिए उन्हें बुलाया जाता है।

पुलिस के एक प्रवक्ता ने कहा कि प्रदेश में चुनावों के दौरान पुलिस जेल से बाहर रह रहे आतंकवादियों को उनकी पहचान की ताजा पुष्टि करने के लिए पुलिस स्टेशन बुलाती है। इसी तरह पीडीपी के नेता रौफ भट्ट को भी अपने पहचान की ताजा पुष्टि करने के लिए पुलिस स्टेशन बुलाया गया था। क्योंकि वह आतंकवादी संगठन हिज़्बुल मुजाहिद्दीन के साथ जुड़ा हुआ था। इसलिए यह आरोप सरासर गलत है।

पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ़्ती ने आरोप लगाया था कि श्रीनगर में पुलिस ने उनके पार्टी के नेता को शुक्रवार को पुलिस स्टेशन में हाजिर होने के लिए कहा था और श्रीनगर नगर निगम (एसएमसी) के चुनाव खत्म होने तक प्रतिदिन सुबह 8 बजे से लेकर 2 बजे तक थाने में मौजूद रहने के लिए कहा था।

महबूबा मुफ़्ती ने प्रदेश के राज्यपाल मनोज सिन्हा से भी सवाल करते हुए कहा कि क्या प्रदेश में नए तरीके के चुनाव हो रहे हैं जो ऐसा बर्ताव किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें: सुरक्षा बलों को मिली बड़ी सफलता, पुलवामा से जैश-ए-मोहम्मद के दो आतंकी गिरफ्तार

Related Articles

Back to top button