कोरोना काल में पैरोल पर रिहा बंदियों की तलाश कर रही पुलिस

पैरोल पर रिहा किए गए कैदियों में से निर्धारित अवधि के भीतर जेल वापस नहीं पहुंचने वाले बंदियों को गिरफ्तार कर जेल भेजने के आदेश सरकार ने दिए हैं।

लखनऊ: कोरोना काल के दौरान उत्तर प्रदेश में पैरोल पर रिहा किए गए कैदियों में से निर्धारित अवधि के भीतर जेल वापस नहीं पहुंचने वाले बंदियों को गिरफ्तार कर जेल भेजने के आदेश सरकार ने दिए हैं। बता दें कि कोरोना काल में सुप्रीम कोर्ट ने जेलों में निरुध्द सजायाफ्ता बंदियों को पैरोल पर छोड़े जाने के निर्देश दिए थे।

कोर्ट के आदेश पर उत्तर प्रदेश की उच्चाधिकार प्राप्त समिति ने 2256 सजायाफ्ता बंदियों को प्रदेश की जेलों से 8 सप्ताह की विशेष पैरोल पर रिहा किए जाने की संस्तुति की गई। हालांकि बाद में पैरोल अवधि को 8-8 सप्ताह के लिए तीन बार बढ़ाया गया।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि सरकार ने पिछली 19 नवंबर को रिहा किए गए बंदियों को तीन दिन के अंदर कारागार में दाखिल होने का निर्देश दिया गया था। जिसके अनुपालन में वर्तमान में पैरोल पर रिहा हुए सिद्धदोष बंदियों को पुनः कारागार में दाखिल कराया जा रहा है।

उन्होंने बताया कि रिहा 2256 बंदियों में से पैरोल के दौरान चार की मृत्यु हो गई। जबकि 136 की अंतिम रूप से रिहाई हो गई वहीं 56 अन्य वाद में जेल में निरुध्द है। इस तरह कुल 193 को छोड़कर शेष 2063 बन्दियों को फिर से जेल में दाखिल होना था। जिसमे से प्रतिदिन निरंतर पैरोल पे रिहा हुए बन्दी जेलों में दाखिल हो रहे हैं। अब तक 693 बन्दी विभिन्न जेलों में वापस आ चुके हैं वहीं 1370 बन्दियों को दाखिल होना है।

सूत्रों ने बताया कि निर्धारित अवधि बीतने के बाद इन कैदियों को गिरफ्तार करके जेलों में फिर निरुध्द कराए जाने संबंधी निर्देश जिलों के पुलिस अधीक्षकों को जेल अधीक्षकों द्वारा पत्र भेजे गए हैं।

यह भी पढ़ें: बहुचर्चित हिरण शिकार मामले सलमान को मिली हाजरी माफी

Related Articles

Back to top button