Mukhtar Ansari को यूपी लाने के लिए रवाना हुई पुलिस टीम, परिजनों को एनकाउंटर का डर

लखनऊ: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में योगी सरकार बाहुबली नेताओं को लेकर काफी गंभीर है, जिनकी बेनामी संपत्तियों को भी जब्त किया जा रहा है। सरकार अब बड़े बाहुबली नेताओं में गिने जाने वाले मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari ) को यूपी में लाने की तैयारी में लगी है। मुख्तार अंसारी फ़िलहाल पंजाब की रोपड़ जेल मे बंद हैं। और कई बार से यूपी से जुड़े आपराधिक मामलों में वीडियो काफ्रेसिंग के जरिये होने वाली पेशी में नहीं आ रहे हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने जारी किया नोटिस

यूपी सरकार ने पहले भी मुख़्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) को यूपी लाने की कोशिश की थी, लेकिन पंजाब सरकार (Government of Punjab) ने उन्हें वहीं रोकने के लिये तीन महीने का वक्त बढ़ा दिया था। अब यूपी सरकार ने मुख्तार अंसारी को राज्य में लाने के लिये सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। इसके परिणामस्वरूप सुप्रीम कोर्ट ने पंजाब सरकार को निर्देश दिए हैं कि मुख्तार की पेशी के लिये पंजाब सरकार, यूपी सरकार का सहयोग करे। सुप्रीम कोर्ट का नोटिस लेकर गाजीपुर की पुलिस पंजाब के लिए रवाना हो चुकी है, जिससे की मुख्तार अंसारी आपराधिक मामलों में पेशी की जा सके।

मुख्तार के करीबियों पर कसा गया शिकंजा

जानकारी के असनुसार उत्तर प्रदेश की योगी सरकार (Yogi Sarkar) मुख्तार और उसके करीबियों पर लगातार शिकंजा कस रही है। बता दे कि नवंबर 2020 में योगी सरकार ने यूपी के मऊ से बाहुबली विधायक मुख्‍तार अंसारी के होटल ‘गजल’ पर बुलडोजर चलवाया था। माना जा रहा है कि ये होटल मुख्तार की पत्नी और बेटे के नाम पर था। मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) के बेटे उमर अंसारी और अब्बास अंसारी पर भी कुछ महीने पहले धोखाधड़ी, जालसाजी और फर्जी दस्तावेज तैयार करने आरोप में एफआईआर दर्ज की गई थी।

एक तरफ योगी सरकार मुख्तार अंसारी को यूपी लाने में जुटी हुई है वहीँ दूसरी ओर मुख़्तार के परिवार को एनकाउंटर का डर सता रहा है, इसलिए वो नहीं चाहते कि मुख्तार को यूपी की किसी भी जेल मे बंद किया जाए. मुन्ना बजरंगी की जेल मे हत्या के बाद से ही माफियाओं में जेल में ही हत्या किये जाने का डर बैठ गया है, इसलिये कई माफिया दूसरे प्रदेश की जेलों मे अपना तबादला करा चुके हैं।

यह भी पढ़ें: जीन्स पहनने से पति ने किया मना, पत्नी ने किया मुक़दमा

यह भी पढ़ें: अपराध की सूचना देने पर तथ्य छिपाने का आरोप सही नही: हाई कोर्ट

Related Articles

Back to top button