‘कैंडी’ के निधन पर रोए पुलिसकर्मी, राजकीय सम्मान के साथ किया गया अंतिम संस्कार

कई वारदातों का खुलासा करने वाले पुलिस महकमे में तैनात जांबाज डॉग स्क्वॉयड कैंडी का निधन को हो गया. जिसका अंतिम संस्कार पूरे राजकीय सम्मान के साथ किया गया.

बहराइच. पुलिस महकमे में तब शोक की लहर दौड़ गई. जब पुलिस महकमे में तैनात जांबाज डाग स्क्वायड कैंडी का निधन गुरुवार रात को हो गया. वह बीते कई दिनों से बीमार चल रहा था. रात में ही पूरे राजकीय सम्मान के साथ विदाई देते हुए पुलिस कर्मियों ने उसका अंतिम संस्कार किया. लखनऊ के श्वान दस्ते में शामिल तेज तर्रार डाग कैंडी सैनिक की रैंक पर था. उसे करीब दो साल पहले बहराइच के पुलिस महकमे के श्वान दस्ते में शामिल किया गया था. वह साढ़े सात साल की आयु से जिले की आपराधिक घटनाओं के खुलासे में पुलिस की मदद कर रहा था. बीते कई दिनों से उसका स्वास्थ्य खराब चल रहा था.

पुलिस महकमे में शोक की लहर

मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डा. बलवंत सिंह की देखरेख में उसका इलाज चल रहा था. गुरुवार की रात आठ बजे के करीब उसका निधन हो गया. निधन होने की सूचना मिलने से पुलिस विभाग में शोक की लहर दौड़ गई. एसपी सुजाता सिंह के निर्देश पर पुलिस लाइन स्थित शहीद स्मृति स्थल पर उसका शव अंतिम दर्शन के लिए रखा गया. यहां पर उसे गार्ड आफ आनर दिया गया. पुलिस क्षेत्राधिकारी लाइन केपी सिंह व प्रभारी प्रतिसार निरीक्षक जाकिर हुसैन की अगुवाई में पुष्प अर्पित कर पूरे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई.

कई घटनाओं के खुलासे में रही अहम भूमिका

जिले में घटित कई बड़ी वारदातों के खुलासे में कैंडी की भूमिका अहम रही. एएसपी नगर कुंवर ज्ञानंजय सिंह बताते हैं कि फखरपुर में मां व दो बच्चों की तीन माह पूर्व हत्या में उसने अहम योगदान दिया था. इसी तरह से खैरीघाट में तेजाब डालकर हत्या के बाद फेंके गए युवक की पहचान का सुराग लगाने में भी उसने अहम भूमिका निभाई थी. चोरी व लूट की वारदातों का खुलासा करने में भी उसकी मदद ली जाती थी.

यह भी पढ़ें- सुनो…सुनो…सुनो… पूर्व PM अटल बिहारी वाजपेयी की जयंती पर युवाओं के लिए खास तोहफा ला रही है योगी सरकार

(Puridunia हिन्दी, अंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब  पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)…

Related Articles